नई दिल्ली, जेएनएनl फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन कोरोना से ठीक होने के बाद पहली बार नजर आएl उन्होंने मुंबई के घर पर रहे एक पुराने गुलमोहर के पेड़ के बारे में लिखा, जो हाल ही में आए तूफान में टूट गया थाl अब उन्होंने अपनी मां की जन्म जयंती पर उनके नाम पर एक नया पौधा लगाया है। एक्टर अमिताभ बच्चन कोरोना वायरस का इलाज कई हफ्तों तक कराने के बाद घर लौट रहे हैं, ने हालिया सोशल मीडिया पोस्ट में एक गुलमोहर के पेड़ के बारे में बताया है कि कैसे उन्होंने 44 साल पहले मुंबई में इसे अपने घर में लगाया था, जो अब टूट गया है। अब उन्होंने अपनी दिवंगत मां तेजवंत कौर सूरी की याद में एक पौधा लगाने के बारे में भी लिखा है, जिन्हें तेजी बच्चन के नाम से जाना जाता है।

अमिताभ ने लिखा, 'इस बड़े 'गुलमोहर' के पेड़ को मेरे द्वारा एक पौधे के रूप में लगाया गया था, जब हमें 1976 में अपना पहला घर मिला था। अब मेरी मां का कल जन्मदिन थाl उनके नाम पर उसी पेड़ के पौधे को उसी जगह पर लगाया है!' अमिताभ ने अपने पिता प्रसिद्ध हिंदी कवि हरिवंशराय बच्चन की एक कविता को भी कोट किया, जिसका सार यह है कि प्रकृति के अपने नियम हैं और वह अपनी भूमिका निभाएंगी, लेकिन हमें आशावादी होने और सही काम करने से नहीं रुकना चाहिए।'

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

“.. जो बसे हैं वे उजड़ते हैं , प्रकृति के जड़ नियम से ; पर किसी उजड़े हुए को , फिर बसाना कब मना है ? .. है अन्धेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है ? “ ~ हरिवंश राय बच्चन This large ‘gulmohar’ tree was planted as a sapling by me when we got our first house Prateeksha in 1976 .. the recent storm brought it down .. but yesterday on my Mother’s birthday Aug 12th I replanted a fresh new Gulmohar tree in her name ..🙏🙏 at the same spot !

A post shared by Amitabh Bachchan (@amitabhbachchan) on

उन्होंने आगे लिखा 'जो बसे है वे उजड़ते है, प्रकृति के जड़ नियम से, पर किसी उजड़े हुए को, फिर से बसाना कब मना है? है अंधेरी रात पर दीया जलाना कब मना है?' उन्होंने अपने बगीचे से पौधारोपण की तस्वीरें भी शेयर कीं। अपने ब्लॉग में अमिताभ बच्चन ने अपनी मां, पौधों और बगीचों के प्रति उनके प्रेम के बारे में लिखा। उन्होंने उल्लेख किया कि कैसे जहां भी उनका परिवार गया उनकी मां उन्हें फूलों और बगीचों से घिरा रखती थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

"महक "गुलाब" की आएगी आपके हाथों से, किसी के रास्ते से "काँटे" हटाकर तो देखो ..!!!' ~ Ef am 🌹

A post shared by Amitabh Bachchan (@amitabhbachchan) on

बिग बी ने लिखा है, 'मां को फूलों और बागानों से प्यार था और जहां भी हम शिफ्ट हुए, वहां उन्होंने सभी को सबसे सुंदर बगीचों और नए वातावरण के फूलों से घिरा रखती थी.. वह घर में हर दिन ताज़े फूल चाहती थी .. ख़ासकर उनके कमरे में .. गुलाब उनका सबसे पसंदीदा था..'

Posted By: Rupesh Kumar

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस