नई दिल्ली, जेएनएन। क्रूज ड्रग्स केस में फंसे शाह रुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत को लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट में सुनवाई चल रही है। आर्यन की जमानत याचिकाएं मजिस्ट्रेट और सेशंस कोर्ट में खारिज हो चुकी हैं। ऐसे में अब सारी उम्मीदें बॉम्बे हाई कोर्ट पर ही टिकी हैं, जहां सुनवाई का आज (28 अक्टूबर) तीसरा दिन है। इस अहम मौके पर शाह रुख खान परिवार के बेहद करीबी ऋतिक रोशन ने एक बार फिर अपना सपोर्ट जाहिर किया है। ऋतिक ने इंस्टाग्राम पोस्ट में आर्यन को जमानत केस को बेहद दुखद लिखा है।

दरअसल, ऋतिक ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में सीनियर जर्नलिस्ट फे डिसूजा का एक वीडियो शेयर किया है, जिसमें वो सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट दुष्यंत दवे के साथ आर्यन जमानत केस पर चर्चा कर रही हैं। इस वीडियो में सीनियर एडवोकेट कुछ चौंकाने वाली बातें सामने रखते हैं। ऋतिक ने इसे शेयर करके लिखा- अगर यह सच है तो वाकई दुखद है। ऋतिक रोशन उन चंद सेलेब्स में शामिल हैं, जिन्होंने खुलकर सार्वजनिक मंच के जरिए आर्यन और शाह रुख को सपोर्ट किया है। 

इससे पहले ऋतिक ने एक पोस्ट भी लिखी थी, जिसमें उन्होंने आर्यन को मोटिवेट करते हुए अपनी अच्छाई को जिंदा रखने के लिए कहा था। ऋतिक ने लिखा था कि जिंदगी एक अजीब तरह की राइड है। इसकी अनिश्चितता ही इसकी ख़ूबसूरती है। यह तुम्हारे सामने मुश्किलें पेश करती है, लेकिन भगवान दयालु है। वो सिर्फ़ सबसे मजबूत लोगों को ही मुश्किलें देता है। तुम्हें उसने इसलिए चुना, क्योंकि तुम इस मुश्किल घड़ी में उस दबाव को सहन कर सकते हो। मैं जानता हूं कि इस वक़्त तुम वो महसूस कर रहे होओगे।

गुस्सा, असमंजस, बेबसी... यह सब अंदर के हीरो को मारने के मसाले हैं। लेकिन, यही मसाले अंदर की अच्छाई को भी जला सकते हैं। दया, जज़्बा, प्यार। ख़ुद को जलने दो, लेकिन एक हद तक। गलतियां, असफलताएं, विजय, सफलता... सब एक जैसे हैं, अगर तुम यह जान लो कि कौन से हिस्से को रखना है, किसे जाने देना है।

View this post on Instagram

A post shared by Hrithik Roshan (@hrithikroshan)

ऋतिक, शाह रुख के करीबियों में गिने जाते हैं। उनकी पूर्व पत्नी सुजैन खान के साथ गौरी खान की गहरी दोस्ती है और अक्सर इनका मिलना-जुलना होता है। क्रूज ड्रग्स केस में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने आर्यन को 3 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था। शुरुआत में एनसीबी की कस्टडी में रहे आर्यन को 7 अक्टूबर को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इसके बाद 8 अक्टूबर को उन्हें आर्थर रोड जेल शिफ्ट कर दिया गया था।

Edited By: Manoj Vashisth