मुंबई। प्रथम पूजनीय भगवान गणेश पधार गए हैं। दस दिनों तक चलने वाले गणपति उत्सव के लिए धूमधाम हैं। बॉलीवुड तो गणेश जी का जबरा फैन रहा है और फिल्मी सितारों का विघ्नहर्ता के उत्सव मनाने का सिलसिला भी दशकों पुराना है।

फिल्म और टीवी से जुड़ा लगभग हर कोई इन दस दिनों में गणपतिमय हो जाता है। कहीं डेढ़ दिन के गणपति बिठाये जाते हैं तो कहीं सात और दस दिनों के। शूटिंग से छुट्टी लेकर घर परिवार और दोस्तों के साथ प्रतिमा लेने जाने और विधिवत उत्सव मनाने के नज़ारे हर साल दिखाई देते हैं। वैसे तो बाल गंगाधर तिलक के सार्वजानिक गणेशोत्सव की परम्परा शुरू करने के बाद से ही ऐसे आयोजन होते रहे हैं लेकिन बताते हैं कि बॉलीवुड में वी शांताराम के समय से गणेशोत्सव मनाने की परंपरा शुरू हुई थी। वो ऐसे पहले फिल्मकार थे, जिन्होंने अपने राज कमल कलामंदिर में गणेश जी की भव्य प्रतिमा लगाई थी। ये उनका स्टूडियो हुआ करता था और तब फिल्म नवरंग के लिए उन्होंने ऐसा किया था l जिसके बाद से गणेश उत्सव हर साल मनाया जाने लगा। इसी प्रतिमा के साथ फिल्म के लिए एक गाना और कुछ सीन्स भी शूट किये गए थे। इस प्रतिमा को उस शूटिंग के बाद से कभी हटाया नहीं गया और 75 साल से अधिक समय तक वहां बाप्पा मोरया के जयघोष सुनाई देते रहे।

राजकपूर भी गणेश जी के अनन्य भक्त थे। आर के स्टूडियो की स्थापना के बाद से ही वहां गणेशोत्सव मनाने की परम्परा शुरू रही। बड़ी बात ये थी कि आर के स्टूडियो की किसी भी फिल्म में गणपति उत्सव से जुड़े प्रसंग पर एक भी गाना नहीं फिल्माया गया। राज कपूर के बाद की पीढ़ी ने गणेश पूजन की परंपरा को आगे बढ़ाया। रणधीर, ऋषि और राजीव हमेशा गणेशोत्सव के दौरान और विसर्जन के समय आर के में रहते। सड़क पर गाजे-बाजे के साथ निकलते। बाद में रणबीर कपूर ने भी इस परम्परा को आगे बढ़ाया।

आर के स्टूडियो, अग्निकांड के बाद अब खत्म हो चुका है। बिकने की तैयारी में है लेकिन इस बार भी वहां गणेशोत्सव मनाया जा रहा है। ज़मीनी अस्तित्व मिटने से पहले एक आख़िरी बार।

संजीव कुमार और जितेंद्र की फिल्म 'टक्कर' का ‘मूर्ति गणेश की, अंदर दौलत देश की’, हम से बढ़कर कौन का ‘देवा हो देवा’ और अग्निपथ का ‘देवा श्रीगणेशा’ सहित कई ऐसे गाने हैं जो गणेशोत्सव के दौरान लोकप्रिय रहे हैं।

जितेंद्र का गणेश उत्सव का बचपन से नाता है। वो हर साल अपने बंगले में तो गणेशोत्सव मनाते ही हैं लेकिन साथ ही गिरगाँव के उस चाल में भी नहीं जाने भूलते जहां उनका बपचन बीता और गणेशोत्सव के दौरान घर घर जा कर प्रसाद खाया। जितेंद्र बताते हैं कि उस दौरान 11 दिनों का सिर्फ मज़ा ही मज़ा होता था। वो श्याम सदन चाल में रहते थे। 22 साल तक वहां बताये हर गणेश उत्सव की याद आज भी उनके ज़हन में है।

गोविंदा बहुत बड़े बाप्पा भक्त हैं। गणेशोत्सव की परम्परा वो तब से निभा रहे हैं जब से विरार में रहते थे। बाद में जब जुहू में रहने आये तो वहां भी गणेश प्रतिमा बिठाने से लेकर विधिवत पूजन और विसर्जन की परंपरा को कभी नहीं छोड़ा। चाहे राजनीति में हों या फिल्मों में गोविंदा अपनी पुरानी जगह पर सपरिवार गणेश स्थापना के लिए मौजूद रहते हैं।

नाना पाटेकर की गणेश भक्ति में बेहद सादगी होती है। करीब 40 साल से अधिक हो गए नाना माहिम स्थित अपने घर में दस दिनों तक बाप्पामय हो जाते हैं। फिल्मों और बाकी सारा काम छोड़, गणेश जी का साज-श्रृंगार और पूजा, सब कुछ नाना बड़ी ही शिद्द्त के साथ करते हैं।

सलमान खान के घर पर भी करीब 17 साल से गणपति की पूजा होती है l उनकी बहन अर्पिता ने इसकी शुरुआत की थी l अर्पिता की शादी के बाद अब उनके घर पर पूजा होती है l सलमान एक दिन सारा काम छोड़ कर पूजा में शरीक होते हैं l आरती भी करते हैं l और झूम कर नाचते-गाते बाप्पा को विदाई भी देते हैं l 

 

अक्षय कुमार की भी गणेशोत्सव को लेकर ख़ास यादें हैं। वो बताते हैं -जब मैं बांद्रा रहता था, सड़कों पर ख़ूब धमाल मचाता था। लोखंडवाला में हमारी बिल्डिंग में गणपति होती थी। विसर्जन के दिन हम वर्सोवा जाते थे। पांच दिनों तक रात भर कैरम और टेबल टेनिस खेलते। प्रसाद खाने के लिए रिश्तेदारों के यहां चले जाते।

हर साल छोटे और बड़े परदे के लोग गणपति उत्सव मनाते हैं। दर्शन के लिए लाल बाग के राजा और अन्य पूजा पंडालों में सितारों का मेला दस दिनों तक लगा रहता है। बॉलीवुड वालों का दावा है कि उनसे बड़ा बाप्पा का कोई फैन(भक्त) नहीं है। यानि... और तुम्हारे भक्तजनों में हम से बढ़कर कौन.... 

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड में गणपति की धूम शुरू, रवीना और माधुरी ने किया बप्पा का स्वागत

Posted By: Manoj Khadilkar