मुंबई। स्वरा भास्कर की फ़िल्म 'अनारकली ऑफ़ आरा' आज ही (24 मार्च) रिलीज़ हुई है। न्यू कमर अविनाश दास की यह डेब्यू फ़िल्म है और फ़िल्म को लेकर अभी तक के रिस्पॉन्स से वो खुश भी हैं। छोटे बजट में बेस्ट स्टारकास्ट से सजी इस फ़िल्म में वैसे तो स्वरा के अलावा पंकज त्रिपाठी, संजय मिश्रा जैसे मंझे हुए कलाकार हैं। लेकिन, इस लिस्ट में अपने अभिनय से सबसे ज़्यादा ध्यान खींचा है एक्टर इश्तियाक़ आरिफ़ ख़ान ने। इश्तियाक़ ने फ़िल्म में हीरामन का किरदार निभाया है।

इश्तियाक़ इंडस्ट्री में नए नहीं हैं। इश्तियाक़ आरिफ़ ख़ान नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा से 2004 में स्नातक करने के बाद अपने अभिनय सफर पर निकले। अनारकली ऑफ़ आरा तक के सफ़र पर पहुंचने से पहले इश्तियाक़ ने कई फ़िल्मों में छोटी-छोटी भूमिकाएं की हैं। आपने उन्हें, राम गोपाल वर्मा की फ़िल्म 'अज्ञात', इम्तियाज़ अली की फ़िल्म 'तमाशा' और उस से पहले अरशद वारसी के सहायक के रूप में 'जॉली एलएलबी' जैसी आधा आदर्जं फ़िल्मों में भी देखा है। लेकिन, अनारकली ऑफ़ आरा में इश्तियाक़ को जैसे अपने टैलेंट को दिखाने का पूरा मौका और मंच मिल गया है। इश्तियाक़ बताते हैं कि मायानगरी का खेल कुछ ऐसा है कि अगर आपके पीछे कोई गॉड फादर न हो तो आपके लिए राह बहुत मुश्किल है। हम जैसे नए एक्टर्स को रोज़ बहुत कुछ साबित करना पड़ता है। इस फ़िल्म में निभाये गए अपने किरदार को लेकर इश्तियाक़ हंसते हुए बताते हैं कि वही इस फ़िल्म के इकलौते शरीफ आदमी हैं, क्योंकि ज़्यादातर किरदार तो बस अनारकली से अपने मतलब के लिए ही जुड़ते हैं। तभी तो एक जगह स्वरा ने गाया भी है -'मोरा पीया मतलब का यार'।

फिल्म रिव्यू: 'मर्दों' की मनमर्जी की उड़े धज्जी 'अनारकली ऑफ आरा' (चार स्टार)  

राइटर डायरेक्टर अविनाश दास के मुताबिक जहां तक बात हीरामन के भोलेपन और निस्वार्थ भाव की है अनारकली ऑफ़ आरा में हीरामन का किरदार कहीं न कहीं राजकपूर की फ़िल्म 'तीसरी कसम' से इंस्पायर है। अनारकली ऑफ़ आरा का हीरामन सच्चे मन से अनारकली से प्यार करता है और अविनाश दास के मुताबिक हीरामन के किरदार के लिए इश्तियाक़ आरिफ़ ख़ान से बेहतर विकल्प उनके पास कोई और नहीं हो सकता था। स्वरा भास्कर ने भी अपने इस साथी कलाकार की जम कर तारीफ की है।

अनारकली ऑफ़ आरा देखने की 5 वजहें, देखें स्क्रीनिंग की तस्वीरें

आपको बता दें कि, सुभाष कपूर की फ़िल्म ' फंस गया रे ओबामा' में इंग्लिश टीचर के रूप में भी इश्तियाक़ आरिफ़ ख़ान का किरदार काफी पॉपुलर रहा है। 'युद्ध' में वो अमिताभ बच्चन के अगेंस्ट में भी काम कर चुके हैं। इश्तियाक़ के अलावा रंगीला के किरदार में पंकज त्रिपाठी, धर्मेंद्र चौहान के अवतार में संजय मिश्रा, इंस्पेक्टर बुलबुल पांडे की भूमिका में विजय कुमार ने भी शानदार अभिनय किया है।

Posted By: Hirendra J

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस