नई दिल्ली, जेएनएनl ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में सिमरन की बुआ कम्मो का किरदार निभाने वाली हिमानी शिवपुरी फिल्म से जुड़ा किस्सा बताती हैं, ‘हम आपके हैं कौन’देखने के बाद आदित्य ने मुझे इस रोल का ऑफर दिया। मैं देहरादून से हूं। वह छोटे शहर की थिएटर वाली लड़की अब भी मुझमें जिंदा है। मैं ‘हसरतें’ सीरियल की शूटिंग कर रही थी। एक दिन आदित्य चोपड़ा का फोन आया कि ‘मैं यश चोपड़ा का बेटा बोल रहा हूं। एक फिल्म बना रहा हूं, जिसमें आपको कास्ट करना चाहता हूं।’

हिमानी शिवपुरी आगे कहती है, 'मैं इतनी भोली थी कि मैंने उन्हें कहा कि मैं शो की शूटिंग नूर बंगले में कर रही हूं, आप वहां आ जाएं। सोचिए लोग यशराज फिल्म्स में जाते हैं और मैंने उन्हें वहां बुला लिया। फिर भी आदित्य नूर बंगले में आए, शॉट के बीच में वह मुझे कहानी सुना रहे थे। कहानी के इंटरवल तक आते ही मैंने कहा कि मैं यह फिल्म कर रही हूं। उन्होंने कहा कि मैम आपका किरदार तो इंटरवल के बाद आएगा। मैंने फिर भी हामी भर दी थी, क्योंकि मुझे फिल्म की कहानी भा गई थी।’

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Sabhi Gurus ko Pranam,starting from my parents the first teachers,and all my teachers in school,college,Nsd.Happy Teachers day!

A post shared by Himani Shivpuri (@hshivpuri) on

सेट से जुड़ी यादों के बारे में हिमानी बताती हैं, ‘हम सब साथ में खाना खाते थे। मेरे किरदार कम्मो और अनुपम जी के किरदार के बीच रोमांटिक एंगल था। फिल्म में राज और सिमरन की कहानी तो अंत में जाकर एक मुकाम तक पहुंचती है, लेकिन मेरी और अनुपम की कहानी का अंत नहीं दिखाया गया। दरअसल, हमारी कहानी को भी एक मुकाम तक पहुंचाना था, लेकिन मैं क्लाइमेक्स की शूटिंग के दौरान सेट पर नहीं थी। अगर ध्यान देंगे, तो क्लाइमेक्स में मैं कहीं नहीं हूं।'

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Set pe yunhi!

A post shared by Himani Shivpuri (@hshivpuri) on

इस बारे में बताते हुए हिमानी शिवपुरी आगे बताती है, 'क्लाइमेक्स की शूटिंग के तीन-चार दिन पहले मेरे पति का देहांत हो गया था। फिल्म की टीम ने इस बात को समझा और मेरे बिना शूटिंग की। शाह रुख खान के साथ मैं ‘त्रिमूर्ति’ में काम कर चुकी थी, ऐसे में उनके साथ अच्छी बांडिंग थी। इस फिल्म में साड़ी वाला एक सीन है, जिसमें वह मुझे खिड़की में से बताते हैं कि साड़ी मुझ पर जंच रही है या नहीं। हम दोनों का यह शॉट अलग-अलग था, लेकिन मेरे सीन के लिए शाह रुख ने खुद खिड़की पर खड़े होकर सभी इशारे वाले रिएक्शन दिए थे। ऐसी ही ढेरों खूबसूरत यादें हैं इस फिल्म की।’

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस