नई दिल्ली, जेएनएनl फिल्म निर्देशक एसएस राजमौली का आज जन्मदिन हैl उन्हें देश के सर्वश्रेष्ठ व्यावसायिक सिनेमा निर्देशकों में से एक माना जाता है। चाहे वह बाहुबली हो या मक्खी, वह अपनी फिल्म के स्केल पर ध्यान दिए बिना प्रभाव डालने में सफल रहे है और प्रत्येक फिल्म के साथ अपने को और आगे बढ़ाया है। राजमौली आज 46 साल के हो गए हैl फिल्म मगधीरा को पुनर्जन्म से जुड़ी प्रेम की सिर्फ कहानी न बनाकर एक सफल व्यावसायिक सिनेमा बनाया।

इसने कमर्शियल सिनेमा के कई रिकॉर्ड तोड़े और फिल्म के एक महत्वपूर्ण हिस्से को एक पीरियड ड्रामा में इतना प्रभावी निर्देशन किया, जो बड़े पर्दे पर किसी महाकाव्य की तरह दिखता है।

फिल्म ने राम चरन को एक स्टार बना दियाl लोगों को कुछ दशक पहले मगधीरा बहुत बड़ी फिल्म लगती थी और राजमौली ने लोगों को अपने विजन से सभी को गलत साबित कर दिया। फिल्म मक्खी से राजमौली ने दुनिया के सामने यह साबित कर दिया कि उन्हें ऐसी फिल्में बनाने के लिए सितारों की जरूरत नहीं है और ठीक इसी तरह उन्होंने मक्खी बनाई। टेक्नोलॉजी और अपने विजन की सहायता से उन्होंने एक सरल कहानी पर हटकर एक फिल्म बनाईl

क्या होगा अगर एक आदमी घर की मक्खी के रूप में पुनर्जन्म लेता है वह अपने हत्यारे से बदला लेना चाहता है? मक्खी केवल प्रायोगिक फिल्म नहीं थीं लेकिन यह अविश्वसनीय रूप से मनोरंजक फिल्म भी थीं और राजमौली ने बेहतरीन फिल्मकारों के अंदाज में इसे एक शानदार फिल्म की तरह बनायाl जिसे लोगों ने पसंद किया और सराहना की। इसके बाद उन्होंने बाहुबली और बाहुबली रिटर्न्स का निर्देशन कियाl एक आदमी का इस पैमाने पर प्रोजेक्ट बनाने में केवल उन्हीं का नाम आता हैं और कोई नहीं।

बाहुबली बनाकर राजमौली ने कई फिल्म निर्माताओं को अपने प्रोजेक्ट्स को बड़ा करने के लिए प्रेरित किया हैl इसने KGF और सई रा नरसिम्हा रेड्डी जैसे प्रोजेक्ट्स के लिए मार्ग प्रशस्त किया है।

हाल ही में चिरंजीवी ने सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया कि अगर बाहुबली और राजमौली नहीं होते, तो वे कभी भी सई रा नरसिम्हा रेड्डी को बनाने का साहस नहीं जुटा पाते।

Posted By: Rupesh Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप