नई दिल्ली, जेएनएन। मिस यूनिवर्स 2019 चुन ली गयी हैं। साउथ अफ्रीका की ज़ोज़िबिनी टुंज़ी (Zozibini Tunzi) को ब्रह्मांड सुंदरी चुना गया है। अब बारी है मिस वर्ल्ड की। 69वीं मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता 14 दिसम्बर को लंदन में आयोजित की जाएगी। मगर, इस बार मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता के लेकर एक विवाद हो गया है। उक्रेन की वेरोनिका डिडुसेंको ने मिस वर्ल्ड आयोजकों के ख़िलाफ़ केस कर दिया है। 

दरअसल, वेरोनिका का मिस उक्रेन का ताज छीनकर मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भाग लेने से सिर्फ़ इसलिए रोक दिया गया है, क्योंकि वो शादीशुदा हैं और पांच साल के बेटे की मां हैं। 24 साल की वेरोनिका ने इसके बाद मिस वर्ल्ड आयोजकों के ख़िलाफ़ घिसे-पिटे नियमों को बदलने की मांग को लेकर मुहिम छेड़ दी है। वेरोनिका ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम एकाउंट से पोस्ट करके अपने कैंपेन #righttobemother यानि 'मां बनने का अधिकार' की जानकारी दी।

उन्होंने लिखा- मैं चाहती हूं कि मिस वर्ल्ड और दुनिया की दूसरी ब्यूटी प्रतियोगिताएं करवाने वाले आयोजक ऐसे नियमों और प्रतिबंधों को हटा लें, जो अभी भी पाषाण युग की याद दिलाते हैं, ताकि यह प्रतियोगिताएं सही मायनों में समाज की सभी महिलाओं का प्रतिनिधित्व करें। 

वेरोनिका ने जानकारी दी है कि सोशल मीडिया में उनके इस कैंपेन को हज़ारों लोगों का समर्थन मिल रहा है। उन्हें इसके लिए शुक्रिया संदेश मिल रहे है। वेरोनिका ने समर्थन देने वालों का शुक्रिया अदा किया है। साथ ही लिखा कि लोगों के सपोर्ट के बिना कुछ भी नहीं होगा।  ने उनके इस कैंपेन को सपोर्ट किया है। 

बता दें कि वेरोनिका को 2018 में मिस उक्रेन का ताज पहनाया गया था, लेकिन जब आयोजकों को पता चला कि उनका पांच साल का बेटा है तो उन्हें मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए अयोग्य ठहरा दिया गया था।

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

My dear followers!❤️ ⠀ I’m so impressed, happy, proud and overwhelmed with our media coverage in the UK🇬🇧. ⠀ I can’t believe we could raise so much awareness to our campaign #righttobeamother which aims to change the discriminatory entry requirements of international beauty pageants to allow all women to participate. ⠀ I would like to see @Missworld and the other global running beauty pageants which seem to be stuck in the dark ages lift all entry restrictions so that these competitions are truly representative of all women in society today🌍. ⠀ Thousands of people have supported my campaign #righttobeamother across social media and I regularly receive thank you notes. I’m grateful to each one of you!!! Nothing would happen without your support, inspiration, help, courage, all of the stories you shared with me. ⠀ THANK YOU!

A post shared by Veronika Didusenko (@veronika_didusenko) on

वेरोनिका ने एक अन्य पोस्ट में बताया है कि उन्होंने मिस वर्ल्ड आयोजकों के ख़िलाफ़ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी है। वेरोनिका का केस दूसरे वक़ीलों के साथ जाने-माने ह्यूमेन राइट्स लॉयर रवि नायक लड़ रहे हैं। इस पोस्ट में वेरोनिका ने लिखा है कि उन्हें ताज वापस नहीं चाहिए। वो चाहती हैं कि पूरे समाज के लिए नियमों में बदलाव किया जाए।

 

 

 

 

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Dear friends, I am happy to share the exciting news with you. Today #righttobeamother has made a huge leap forward. I have launched a legal challenge against @MissWorld and this marks the new phase in our joint fight for justice. ⠀ I am proud to be represented by Ravi Naik, Human Rights Lawyer of the Year 2018, and Leading Counsel Marie Demitriou QC. Ravi represents clients in some of the world’s most high profile cases. This includes the first case against #CambridgeAnalytica for political profiling and claims against Facebook for their data practices. Marie Demitriou was a barrister on the legal team acting for South African athlete Caster Semenya who was subjected to testing following her victory at the 2009 World Championships. ⠀ We say that under the #EqualityAct 2010 the entry policy operated by #MissWorld is discriminatory on various grounds, namely marital status, and pregnancy and maternity. The Equality Act protects against discrimination based on certain characteristics, including marriage, maternity and . The reason I was not allowed to compete in Miss World after winning the title #MissUkraine is because I had been married and have a child. Denying me the chance of competing on those bases breaches those protections against discrimination. ⠀ I don’t want the crown back. I want to get the rules changed for wider society. These rules are a systemic, widespread and international policy that results in discrimination on large scale across many countries. ⠀ This year the 69th Miss World Final returns to London on 14 December 2019. We believe it is the right moment for @MissWorld to introduce the change. ⠀ I am really glad to see that our story has resonated with the UK national media such as @dailymail, @telegraph, @thesun, @skynews, @thetimes, @bbcnews, @bbcnewsbeat, @dailymirror🌍 ⠀ Photo credit: David McHugh/Brighton Pictures

A post shared by Veronika Didusenko (@veronika_didusenko) on

बता दें कि मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में इस बार भारत की ओर से सुमन राव भाग लेंगी, जिन्होंने मिस इंडिया वर्ल्ड का ताज पहना था। मिस वर्ल्ड का ताज आख़िरी बार 2017 में भारत आया था, जब मानुषी छिल्लर ने यह प्रतियोगिता जीती। 

Posted By: Manoj Vashisth

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप