अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। शूजीत सरकार की फिल्म 'पिंक' ने इस बार बेस्ट फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल किया है। ऐसे में शूजीत इस उपलब्धि से खुश तो हैं। लेकिन आपको यह जान कर हैरानी होगी कि आमतौर पर हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में जश्न का आगाज बिना पार्टी के नहीं होता है। मगर, शूजीत सरकार इस बार खास वजह से 'पिंक' की इस उपलब्धि के लिए पार्टी का जश्न नहीं मनाना चाहते हैं।

इस बारे में पूछने पर शूजीत सरकार ने जागरण डॉट कॉम से बातचीत में कहा है कि 'पिंक' ऐसी फिल्म नहीं है, जिसके लिए पार्टी मना कर जश्न मनाया जाये। जैसे मुद्दे के साथ इस फिल्म ने डील किया है। वह दर्दनाक था और इसलिए मैं इस बात के लिए पार्टी नहीं मनाना चाहता। वह हार्ड हिटिंग फिल्म थी। मैं इस बात से खुश बहुत हूं, लेकिन खुशी का इजहार इस बार पार्टी से नहीं करूंगा। शूजीत ने बताया कि उन्हें उनके एक पत्रकार दोस्त ने सबसे पहले बताया कि पिंक ने यह खिताब हासिल किया है तो उन्होंने फौरन अमिताभ बच्चन को फोन लगाया।

यह भी पढ़ें: Exclusive : तो बेगम जान की यह भी है एक खूबी, नेशनल अवॉर्ड विनर्स को किया फोन और कहा

शूजीत कहते हैं ''मैें अमिताभ सर के बगैर किसी भी फिल्म की परिकल्पना नहीं करता हूं। मेरी हर फिल्म में उनका सपोर्ट चाहता हूं। जब मैंने उन्हें बताया हम सभी थोड़े देर के लिए फोन पर शांत हो गये थे और मैं जानता हूं कि मिस्टर बच्चन के जेहन में भी क्या इमोशंस चल रहे होंगे। इस फिल्म को यह उपलब्धि दिलाने में उनका सबसे बड़ा योगदान है और उन्होंने मुझे कहा कि शूजीत हमें इसी तरह काम करते रहना है। हम आगे भी ऐसे ही काम करेंगे। उनका मेरे लिए इतना कह देना ही काफी था।''

यह भी पढ़ें: जब रमेश सिप्पी थे जूरी के हेड और अमिताभ को मिला था नेशनल अवॉर्ड, तब नहीं किया कोई सवाल - प्रियदर्शन

हाल ही में अविनाश दास की फिल्म 'अनारकली आॅफ आरा' रिलीज हुई है। इस फिल्म की पिंक से तूलना की गयी। इस बारे में पूछने पर शूजीत का कहना है कि ''मैंने यह सुना है। लेकिन मुझे इस बात से तकलीफ होती है कि किसी की फिल्म की किसी से तुलना करें। हर निर्देशक अपनी सोच से कहानी कहता है और इस बात की रिस्पेक्ट करनी चाहिए। मैं तो खुश हूं कि ऐसे मुद्दे पर और फिल्म बने। शूजीत जल्द ही अपने नये प्रोजेक्ट्स की भी घोषणा करेंगे।

Posted By: Rahul soni

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस