मुंबई। बिमल रॉय हिंदी सिनेमा के ऐसे फ़िल्मकारों में शामिल हैं, जिन्होंने अपनी फ़िल्मों से सिनेमा को दिशा दिखाने का काम किया। बिमल रॉय को वास्तविक सिनेमा का जनक भी कहा जा सकता है। दो बीघा ज़मीन, परिणीता, सुजाता और बंदिनी जैसी फ़िल्मों के ज़रिए बिमल रॉय ने विभिन्न सामाजिक मुद्दों को उठाया। यह फ़िल्में आज भी क्लासिक मानी जाती हैं और सिनेमा के विद्यार्थियों के लिए एक संस्थान हैं। 8 जनवरी को बिमल दा की पुण्य तिथि है। 1966 में इसी दिन महज़ 56 साल की उम्र में बिमल दा ने इस दुनिया से विदा ली थी। 

बिमल रॉय की तमाम फ़िल्में वैसे तो अपने आप में लीजेंडरी हैं, मगर एक फ़िल्म का यहां हम विशेष रूप से उल्लेख कर रहे हैं, क्योंकि यह फ़िल्म ना होती तो हम बिमल रॉय जैसा फ़िल्मकार वक़्त से पहले खो देते। यह फ़िल्म है 'मधुमती', जिसने बिमल रॉय के मरणासन्न करियर में जान फूंक दी थी और उन्हें वक़्त की गर्द में खोने से बचा लिया।

मधुमती 1958 में रिलीज़ हुई थी। 'मधुमती' से जुड़े कई पहलू ऐसे हैं, जो इसे भारतीय सिनेमा की फ्लैगबेयरर फ़िल्म बनाते हैं। इसका प्रीमियर मुंबई के ओपेरा हाउस में हुआ था। फ़िल्म की शूटिंग रानीखेत, घोड़ाखाल, वैतरणा डैम और मुंबई की आरे मिल्क कॉलोनी में हुई थी। 'मधुमती' अपने दौर से आगे की फ़िल्म कही जा सकती है, क्योंकि इसने बाद के दशकों में तमाम फ़िल्मों को प्रेरित किया है। दिलीप कुमार, वैजयंती माला और प्राण ने मुख्य किरदार निभाये थे।

बिमल रॉय का हुआ था 'पुनर्जन्म'

मधुमती से पहले बिमल रॉय ने दिलीप कुमार और वैजयंती माला के साथ 'देवदास' बनायी थी, जो 1955 में रिलीज़ हुई थी। शराब में बर्बाद आशिक़ देवदास की इस कहानी ने बिमल दा को भी बर्बाद कर दिया था। 'देवदास' भले ही आज भारतीय सिनेमा की क्लासिक फ़िल्म मानी जाती है, मगर बॉक्स ऑफ़िस पर फ्लॉप रही थी और बिमल दा की प्रोडक्शन कंपनी सड़क पर आ गयी थी। फ़िल्म इंडस्ट्री में बने रहने के लिए बिमल रॉय को एक सफलता की बेहद ज़रूरत थी। रित्विक घटक ने जब यह कहानी बिमल दा को सुनाई तो उन्हें यह ख़ूब पसंद आयी और इस पर काम शुरू कर दिया गया। राजिंदर सिंह बेदी ने फ़िल्म के डायलॉग उर्दू लिपि में लिखे थे। दिलीप कुमार पहले ही फ़िल्म में काम करने को राज़ी थी। प्राण के आने के बाद वैजयंतीमाला भी तैयार हो गयीं और इस तरह मधुमती का सफ़र शुरू हुआ। फ़िल्म की बेतहाशा कामयाबी ने बिमल रॉय के लिए ऑक्सीजन का काम किया। यह कहना ग़लत नहीं होगा कि मधुमती की वजह से हिंदी सिनेमा के एक दिग्गज निर्देशक का पुनर्जन्म हुआ।

शुरू हुआ पुनर्जन्म का कॉन्सेप्ट

हिंदी सिनेमा में पुनर्जन्म पर आधारित कई फ़िल्में बनायी जा चुकी हैं। ऐसी तमाम फ़िल्में दर्शकों ने देखी होंगी और पसंद भी की जाती हैं। इन सभी फ़िल्मों की जड़ें मधुमती तक जाती हैं, क्योंकि पुनर्जन्म या रीइनकार्नेशन पर बनी यह पहली फ़िल्म मानी जाती है। फ़िल्म की कहानी और संवाद रित्विक घटक और राजिंदर सिंह बेदी ने लिखे थे। मधुमती में दिलीप कुमार ने दो किरदार निभाये थे। पहले जन्म में उनके किरदार का नाम आनंद था, जबकि दूसरे जन्म में देविंदर। वैजयंतीमाला के किरदारों के नाम मधुमती और माधवी थे। शाह रुख़ ख़ान की फ़िल्म 'ओम शांति ओम' सुभाष घई की फ़िल्म 'क़र्ज़' से प्रेरित है, लेकिन इसका क्लाइमैक्स मधुमती से लिया गया है।

1958 की सबसे बड़ी हिट

मधुमती अपने समय की बेहद कामयाब फ़िल्म है, जिसने उस ज़माने में 4 करोड़ का ग्रॉस कलेक्शन किया था, जिसमें से 2 करोड़ नेट कलेक्शन है। बॉक्स ऑफ़िस विश्लेशक बताते हैं कि 2016 में जब मधुमती के बॉक्स ऑफ़िस कलेक्शन को मुद्रास्फीति के साथ एडजस्ट किया गया था तो यह रक़म 478 करोड़ आयी थी। यानि अगर मधुमती 2016 में रिलीज़ हुई होती तो 478 करोड़ का कलेक्शन करती। यह फ़िल्म 1958 की सबसे बड़ी सफलता बनी।

ख़ूब चला संगीत

मधुमती की कामयाबी में इसके संगीत ने बड़ी भूमिका निभायी थी। फ़िल्म में कुल 11 गाने थे, जिन्हें मुकेश, लता मंगेशकर, मन्ना डे, मोहम्मद रफ़ी, मुबारक बेगम, आशा भोसले, ग़ुलाम मोहम्मद और द्विजन मुखोपाध्याय ने आवाज़ दी थी। मुकेश और लता की आवाज़ से सजे 'दिल तड़प-तड़प कह रहा है आ भी जा...' को सबसे अधिक लोकप्रियता मिली थी। गाने शैलेंद्र ने लिखे थे, जबकि संगीत सलिल चौधरी ने दिया था। इस फ़िल्म के लिए सलिल दा ने बेस्ट म्यूज़िक डायरेक्टर का पहला फ़िल्मफेयर अवॉर्ड जीता। फ़िल्म का संगीत 14 मार्च 1958 को रिलीज़ किया गया था। ख़ास बात यह है कि मधुमती का संगीत गाने लिखे जाने से पहले ही तैयार कर लिया गया था।

सबसे अधिक फ़िल्मफेयर अवॉर्ड्स

फ़िल्मफेयर अवॉर्ड्स के इतिहास में मधुमती उन फ़िल्मों में शामिल है, जिसने सबसे अधिक पुरस्कार जीते हैं। छठे फ़िल्मफेयर अवॉर्ड्स समारोह में इसे 9 अवॉर्ड्स मिले थे। यह रिकॉर्ड 37 साल बाद शाह रुख़ और काजोल की फ़िल्म 'दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे' ने तोड़ा, जिसे कुल 10 अवॉर्ड्स मिले थे। छठे नेशनल अवॉर्ड्स समारोह में मधुमती को बेस्ट फीचर फ़िल्म इन हिंदी के लिए प्रेसीडेंट के सिल्वर मेडल से नवाज़ा गया था। मधुमती को बेस्ट फॉरेन लैंग्वेज केटेगरी में एकेडमी अवॉर्ड्स के लिए भी भेजा गया था, मगर नॉमिनेट नहीं हो सकी।

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस