नई दिल्ली, जेएनएन। संजय लीला भंसाली की फ़िल्मों से विवादों की रिश्तेदारी नई नहीं है। भंसाली जितनी भव्य और रंगीन फ़िल्में बनाते हैं, उनको लेकर विवाद भी उसी अनुपात में होते हैं। गोलियों की रासलीला राम लीला और पद्मावत के बाद अब गंगूबाई काठियावाड़ी के शीर्षक को लेकर विवाद की शुरुआत हो गयी है। महाराष्ट्र के कांग्रेस विधायक अमीन पटेल ने फ़िल्म के टाइटल को बदलने की मांग की है।

पीटीआई के अनुसार, कांग्रेस विधायक ने यह मांग इसलिए उठाई है, क्योंकि उन्हें लगता है कि गंगूबाई काठियावाड़ी शीर्षक से काठियावाड़ शहर का नाम ख़राब हो रहा है। भंसाली निर्देशित गंगूबाई काठियावाड़ी मुंबई के रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा की एक बेहद ताक़तवर मैडम गंगूबाई की कहानी है, जो एस हुसैन ज़ैदी की किताब माफ़िया क्वींस ऑफ़ मुंबई के एक चैप्टर से ली गयी है। फ़िल्म में आलिया भट्ट शीर्षक किरदार में हैं। फ़िल्म का टीज़र हाल ही में रिलीज़ किया गया था और काफ़ी चर्चित हुआ। अजय देवगन भी फ़िल्म में एक अहम किरदार निभाते हुए दिखेंगे। कहानी साठ के दशक में कही गयी है।

पटेल ने विधानसभा में मुद्दा उठाते हुए कहा कि कमाठीपुरा इलाक़ा अब काफ़ी बदल चुका है। अब यह पचास के दौर जैसा नहीं है। अब यहां कई व्यवसाय फलफूल रहे हैं। फ़िल्म का टाइटल काठियावाड़ सिटी का नाम भी धूमिल कर रहा है। इसलिए फ़िल्म का नाम बदला जाा चाहिए। अमीन पटेल साउथ मुंबई की मुंबादेवी विधानसभा सीट से विधायक हैं।

आपको याद होगा, साल 2018 में आयी संजय लीला भंसाली की पिछली फ़िल्म पद्मावत को लेकर कई महीनों तक बवाल चला था। फ़िल्म में दीपिका पादुकोण ने चित्तौड़गढ़ की महारानी पद्मावती का रोल प्ले किया था। रणवीर सिंह अलाउद्दीन खिलजी के रोल में थे। कुछ संगठनों ने फ़िल्म का इसलिए विरोध किया था, क्योंकि उन्हें शक़ था कि फ़िल्म में पद्मावती और खिलजी के बीच कुछ आपत्तिजनक दृश्य शामिल किये गये हैं। कई महीनों तक बवाल चलता रहा, जिसके चलते रिलीज़ डेट भी बदलनी पड़ी।

आख़िरकार पद्मावती का नाम बदलकर पद्मावत कर दिया गया, जो मलिक मोहम्मद जायसी के महाकाव्य का नाम है, जिसमें रानी पद्मावती के जौहर की घटना कही गयी है। इससे पहले भंसाली की फ़िल्म राम लीला के टाइटल का विरोध किया गया था, जिसे रिलीज़ से पहले बदलकर गोलियों की रासलीला राम लीला कर दिया गया था।

Edited By: Manoj Vashisth