मुंबई। अगर आपने मोबाइल फोन का नंबर बॉलीवुड के किसी खांस, कपूर्स या ख़ूबसूरत हसीना के लबों पर आ जाए तो उससे जितनी ख़ुशी नहीं मिलेगी, उससे कहीं ज़्यादा तकलीफ। पर अब सेंसर इस मामले में भी सख़्त हो गया है।

जी हाँ। सेंसर के नए फरमान को जानने से पहले ज़रा ये बात समझ लीजिये। अक्सर आपने देखा होगा कि स्क्रीन पर किसी को सेल फोन या लैंड लाइन नंबर फ्लैश होता है, उसे परदे पर दिखाया जाता है और कई बार तो फिल्म के किरदार भी पूरा नंबर बोल कर बताते हैं। आमतौर पर ये नंबर जिसका होता है, उस पर लोग फोन कर परेशान करने लगते हैं। सेंसर बोर्ड ने अब इस तरह की प्रैक्टिस पर सख़्ती करने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक सेंसर बोर्ड ने सभी निर्माताओं से कहा है कि वो बिना एन ओ सी ( अनापत्ति प्रमाणपत्र ) के ऐसा कोई भी नंबर न तो दिखा सकते हैं न ही बोल कर ज़ाहिर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:संजय दत्त के फैंस के लिए 10 अगस्त होगी यादगार, तब तक धांसू पोस्टर देखिए

जानकारी के मुताबिक अगर कोई भी निर्माता किसी भी फोन नंबर को पूरी तरह दिखाना या बताना चाहता है तो उसे पहले इस बात का प्रूफ देना होगा कि जिस भी व्यक्ति का वो नंबर है , निर्माता उसे जानता है और उस व्यक्ति को अपना फोन नंबर परदे पर दिखाये जाने या बोल कर बताये जाने से कोई आपत्ति नहीं है। सेंसर ने इस बारे में निर्माताओं से एन ओ सी को अनिवार्य बनाने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें:मैंने यह नहीं कहा कि कोई फीमेल प्लेअर सौरव गांगुली जैसा करे - ऋषि कपूर

गौरतलब है कि कुछ समय पहले इस तरह की कई घटनाएं पुलिस में रिपोर्ट की गई थीं कि स्क्रीन पर दिखाए गए फोन नंबर पर अज्ञात लोग कॉल कर परेशान कर रहे हैं। तब कुछ टीवी शो और फिल्मों में नंबर को छिपाने या आधा नंबर बोलने की प्रक्रिया भी शुरू की गई थी।

Posted By: Manoj Khadilkar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस