मुंबई। बाबा राम रहीम सिंह की फिल्म 'एमएसजीः द मैसेंजर ऑफ गॉड' के ट्रेलर को भले ही लाखों दर्शकों ने देखा हो, लेकिन सेंसर बोर्ड ने फिल्म को पास करने से इंकार कर दिया है। सेंसर बोर्ड का दावा है कि बाबा राम रहीम ने फिल्म में खुद को भगवान की तरह पेश किया है। सेंसर बोर्ड की टीम में ज्यादातर सदस्य फिल्म के खिलाफ हैं। अब फिल्म को बोर्ड की रिवाइजिंग कमेटी के पास विचाराधीन है। फिल्म पर आखिरी फैसला रिवाइजिंग कमेटी को ही करना है।

'एमएसजी' रिलीज होने से पहले सीक्वल पर भी शुरू हुआ काम

सूत्रों ने बताया कि हालांकि राम रहीम ने बेशक फिल्म में किसी धर्म की आलोचना नहीं की है लेकिन वो इसमें जादू और जानलेवा बीमारियों का इलाज करते दिख रहे हैं।

बोर्ड के एक सदस्य ने कहा, 'धर्मगुरु ने खुद को भगवान की तरह पेश किया है और फिल्म विज्ञापन ज्यादा लग रही है। इसके साथ ही कुछ सीन्स में जादूगरी भी दिखाई गई है जो बेतुके हैं।'

'एमएसजी' के पोस्टर को लेकर फायरिंग व पत्थरबाजी

अब फिल्म को बोर्ड की रिवाइजिंग कमेटी को भेजा गया है और रिवाइजिंग कमेटी फिल्म को आज देखेगी।

फिल्म के प्रवक्ता आदित्य इंसान ने सेंसर बोर्ड के तर्क का विरोध किया है। उन्होंने कहा, 'प्रोमो में वो साफ-साफ कह रहे हैं कि वो आम इंसान हैं। वो फिल्म के हीरो हैं और वही कर रहे हैं जो बाकी हीरो करते हैं - समाज के दुश्मनों से झगड़ रहे हैं। अब हम रिवाइजिंग कमेटी के फैसले का इंतजार कर रहे हैं।'

फिल्म ‘एमएसजी’ पर बढ़ा विवाद, धरने पर बैठे सिख श्रद्धालु

Edited By: Monika Sharma