मुंबई। आमिर ख़ान की फ़िल्म दंगल के सामने लगता है सेंसर बोर्ड की कैंची की धार भी बेकार हो गई, जिसके चलते फ़िल्म को U सर्टिफिकेट दिया गया है।

अहम बात ये है कि U सर्टिफिकेट देने के लिए फ़िल्म से एक भी सीन या डायलॉग नहीं काटा गया है, जो आज कल के दौर में काफी अजीब बात है। सूत्रों के मुताबिक़, सेंसर बोर्ड को फ़िल्म के सर्टिफिकेशन के लिए ज़्यादा सोचना नहीं पड़ा। आमिर की फ़िल्म दंगल वुमन एंपॉवरमेंट का इतना स्ट्रांग मैसेज देती है, कि बोर्ड चाहता है फ़िल्म सब लोग देखें। फ़िल्म देखने के बाद बोर्ड के सदस्य इतने प्रभावित थे कि वो इसे लिए टैक्स में छूट के लायक मानते हैं क्रिसमस पर रिलीज़ हो रही दंगल के लिए इतनी जल्दी सर्टिफिकेट मिल जाना इसके प्रमोशंस के लिए अच्छा है क्योंकि आमिर अब बगैर किसी डर के फ़िल्म को ऑडिएंस के बीच लेकर जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें- यूलिया वंतूर के देश में सलमान नहीं इस सुपरस्टार का है जलवा

गौरतलब है कि आमिर की पिछली फ़िल्म पीके में भी एक स्ट्रांग मैसेज छिपा था, मगर फिर भी इसे एक न्यूड सीन की वजह से U/A सर्टिफिकेट दिया गया था। अब दंगल के लिए आमिर को सेंसर बोर्ड से दो-दो हाथ नहीं करने पड़े। दंगल कुश्ती कोच महावीर फोगट की बायोपिक फ़िल्म है। फ़िल्म में आमिर महावीर फोगट के रोल में हैं।

Posted By: Manoj Vashisth

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप