मुंबई। बॉलीवुड में इन दिनों खूब बायोपिक बन रही हैं और दर्शकों को पसंद भी आ रही हैं। एेसे में बड़ी खबर यह है कि, अपने जमाने की दिग्गज और प्रसिद्ध अदाकारा मधुबाला के जीवन पर आधारित फिल्म बनेगी। जी हां, मधुबाला की छोटी बहन मधुर बृज भूषण ने इस बायोपिक के बनाए जाने की जानकारी दी है।

मिड डे से बात करते हुए उन्होंने कहा, कई फिल्ममेकर्स ने इस आइडिया पर अपनी दिलचस्पी दिखाई है। लेकिन अभी तक किसी डायरेक्टर के नाम पर फैसला नहीं हुआ है। मैं एक कंसलटेंट की तरह इस टीम में काम करूंगी। हम फिल्म की शूटिंग अगले साल से शुरू करेंगे। बताया जाता है कि, फिल्मी पर्दे के पीछे मधुबाला की जिंदगी काफी परेशानियों से घिरी रही। उनकी बहन ने यह भरोसा दिलाया है कि मधुबाला की बायोपिक में ईमानदारी से मधुबाला के जीवन के उतार-चढ़ाव को दिखाया जाएगा। इस बारे में उन्होंने बताया कि, बायोपिक में बहन की जिंदगी के ज्यादातर राज खोलेंगी। मधुबाला का दिलीप कुमार के साथ अफेयर, किशोर कुमार से शादी। यह सब इस तरह से दर्शाया जाएगा कि किसी की भी भावनाओं को ठेस न पहुंचे। स्टारकास्ट की बात करें तो इस पर अभी कुछ भी फाइनल नहीं हुआ है। यह सब डायरेक्टर के नाम के फाइनल होने के बाद ही होगा।

मधुबाला का सिनेमा के लिए अहम योगदान रहा है। इसमें मुगल-ए-आजम, चलती का नाम गाड़ी, मिस्टर एंड मिसेज 55, महल आदि फिल्मों के नाम शामिल हैं। आपको बता दें कि, एक बाल कलाकार से लेकर एक आइकॉनिक अभिनेत्री तक का सफ़र तय करने वाली मधुबाला की जीवन यात्रा अविस्मरणीय रही है। मुगल-ए-आज़म की अनारकली मतलब मधुबाला ने अपने अभिनय से हिंदी सिनेमा के आकाश पर एक ऐसी अमिट छाप छोड़ दी कि आज भी कई अभिनेत्रियां उन्हें अपना रोल मॉडल मानती हैं। मधुबाला को पहली बार हीरोइन बनाया डॉयरेक्टर केदार शर्मा ने। फिल्म 'नीलकमल' में राजकपूर उनके हीरो थे। लेकिन, उन्हें बड़ी सफलता और लोकप्रियता फिल्म महल से मिली। इस सस्पेंस फिल्म में उनके नायक थे अशोक कुमार। महल की सफलता के बाद मधुबाला ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा।

एफटीआईआई को दिया था यह गिफ्ट

मधुबाला ने भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान (FTII) को 1962 में एक बहुत बड़ा तौहफा दिया था। यह दिलचस्प बात खुद इस संस्थान के अध्यक्ष अनुपम खेर ने सोशल मीडिया के जरिए बताई थी। एक वीडियो जो अनुपम खेर ने शेयर किया था उसमें FTII के अंदर प्रभात स्टूडियो नज़र आ रहा था। इसमें अनुपम ने मधुबाला द्वारा प्रदान की गई कैमरा क्रेन को दिखाया था। उन्होंने लिखा था कि, एक्ट्रेस मधुबाला ने यह अमेजिंग कैमरा क्रेन 1962 में एफटीआईआई को दी थी। यह आज भी अॉप्रेशनल है। प्रभात स्टूडियो की स्थापना 1929 में हुई थी जहां पर इस क्रेन को रखा गया है। यह क्रेन आज भी चलती है और इसे ट्रेक पर भी चलाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: धड़क का ट्रेलर देख रो पड़ी थीं खुशी कपूर, जाह्नवी ने खोला बहन से जुड़ा ये राज़

बताते चलें कि, बॉलीवुड में इस समय कई बायोपिक बन रही हैं। हाल ही में संजय दत्त पर राजकुमार हिरानी के निर्देशन में बनी फिल्म संजू को अपार सफलता मिली है। इस फिल्म में संजय दत्त की भूमिका रणबीर कपूर ने निभाई है। हॉकी लीजेंड 'फ्लिकर किंग' संदीप सिंह के जीवन पर बन रही फिल्म सूरमा काफी चर्चा में है। संदीप सिंह की कहानी एक प्रेरणादायक कहानी है कि किस तरह वह पैरेलाइज्ड होने के बाद दोबारा अपने पैरों पर खड़े हुए और भारत देश के लिए इतने सारे सम्मान हासिल किये। 13 जुलाई को रिलीज़ होनी इस फिल्म में संदीप सिंह की भूमिका दिलजीत दोसांझ निभा रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: टाइगर श्रॉफ सीरिया में लेंगे मिलिट्री ट्रेनिंग, ये है वजह

 

By Rahul soni