नई दिल्ली, जेएनएन। बॉलीवुड एक्टर अर्जुन कपूर आजकल अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर चर्चा में हैं। पिता बोनी कपूर और मां मोना के संबंधों पर बात करते हुए एक्टर ने कहां कि मेरी मां ने पिता के खिलाफ हमारे मन में कभी जहर नहीं घोला। इन सबके बावजूद 2018 में श्रीदेवी के अचानक निधन के बाद अर्जुन और उनकी बहन ने पिता के साथ खड़े रहने का फैसला किया।

'मैं इतने खुले विचारों का हूं'

बॉलीवुड बबल को दिए इंटरव्यू में अर्जुन बोले मेरे पिता ने हमें छोड़कर दूसरी शादी कर ली और अपना अलग घर बसा लिया। मैंने उनके साथ ज्यादा वक्त नहीं बिताया। मेरे पास मेरी नानी, मां और बहन थीं। मैंने जो सीखा अपनी मां से सीखा है। अर्जुन आगे कहते हैं कि मेरी मां ने कभी हमें पिता के खिलाफ नहीं भरा जबकि उनके पास ऐसा करने की सारी वजहें थीं।यहीं कारण है कि मैं इतने खुले विचारों का हूं।

मेरे पिता बहुत प्यारे इंसान हैं

अर्जुन ने साफ तौर पर कहा कि मुझे याद है कि मेरी मां ने मुझसे आराम से आकर कहा कि, ‘तुम्हारे पिता हमें अकेला छोड़ कर चले गए हैं, उनकी कुछ अपनी वजह थी।' मेरी मां ने कभी पिता के खिलाफ कुछ गलत बोली भी नहीं। ये मैंने उनसे ही सीखा है। आज जब मैं बड़ा हो गया हूं तो समझ पाता हूं कि मैं अपने पिता को इतना प्यार क्यों करता हूं, उनकी सारी गलतियों के बावजूद।क्योंकि वो बहुत ही प्यारे इनसान हैं।

 

 

 

 

View this post on Instagram

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

A post shared by Arjun Kapoor (@arjunkapoor)

'मां के साथ जो किया वो ठीक नहीं था'

अर्जुन ये बात आज भी मानते हैं कि उनके पिता ने उनकी मां के साथ जो किया वो ठीक नहीं था। अर्जुन कहते हैं, मैं नहीं कह सकता कि वो सब ठीक है, होता है लेकिन मैं इसे समझता हूं।' बता दें कि अर्जुन कपूर इन दिनों सरदार का ग्रांडसन फिल्म को लेकर चर्चा में हैं।  इसे दर्शकों का खूब प्यार भी मिल रहा है। फिल्म की कहानी दादी और पोते के रिश्ते पर आधारित है। 

Edited By: Ruchi Vajpayee