नई दिल्ली, जेएनएन। बात साल 1969 की है, जब फ़िल्म आई सात हिंदुस्तानी। उस वक्त शायद ही कोई जानता होगा कि सालों बाद इस फ़िल्म को इसलिए याद किया जाएगा कि यह अमिताभ बच्चन की पहली फ़िल्म है। दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से सम्मानित होने जा रहे बिग-बी ने भारतीय सिनेमा को कई शानदार फ़िल्में दीं। शोले, दीवार, त्रिशूल से लेकर पा और पिंक तक कई ऐसी फ़िल्में हैं, जो खूब चर्चित हुईं और वक़्त के साथ क्लासिक कही गयीं। लेकिन अमिताभ के जीवन में कुछ ऐसी फ़िल्में भी आईं, जिनमें उन्होंने शानदार काम किया, फिर भी उनका जिक्र कम होता है। लोग इन फ़िल्मों के बारे में कम जानते हैं। इस ख़बर में हम पांच ऐसी ही फ़िल्मों के बारे में बता रहे हैं, ज़रा सोचिए आपने कौन-कौन-सी देखी हैं...

1.सौदागर

राजकुमार-दिलीप कुमार वाली सौदगार तो सबको पता होगी, लेकिन यह उससे अलग फ़िल्म है। साल 1973 में आई इस सौदागर में लीड रोल में अमिताभ थे। वहीं, अमिताभ के अपोज़िट पदमा खन्ना और नूतन ने काम किया था। यह फ़िल्म नरेंद्रनाथ मित्रा द्वारा लिखी गई एक बंगाली कहानी पर आधारित थी। यह एक किस्म की क्लासिकल लव ट्रांयग्ल है, जिसमें मोती (अमिताभ) की दो शादियां होती है। जहां लड़ाई आतंरिक सुंदरता और बाहरी सुंदरता की है। 46वें एकेडमी अवॉर्ड के लिए बेस्ट फॉरेन कैटेगरी में यह फ़िल्म भारत की ऑफ़िशियल एंट्री थी। 

2.बॉम्बे टू गोवा

साल 1972 में अमिताभ के फ़िल्मी करियर में बड़ा मोड़ आया, जब उन्हें बॉम्बे टू गोवा ऑफ़र हुई। यह अमिताभ के लिए इसलिए स्पेशल थी, क्योंकि वह पहली बार किसी फ़िल्म में लीड रोल में थे। इस कॉमेडी फ़िल्म में विलेन का रोल शत्रुघ्न सिन्हा ने निभाया था। बाद इस फ़िल्म के कई रीमेक बने। हिंदी सिनेमा में साल 2007 में इसी नाम से एक और फ़िल्म आई थी। इस फ़िल्म के बारे में बताया जाता है, जो किरदार अमिताभ ने निभाया था, उसे पहले राजीव गांधी को ऑफ़र किया गया था। हालांकि, राजीव ने इसे स्वीकार नहीं किया।

3.परवाना

साल 1971 में अमिताभ बतौर विलेन पहली बार पर्दे पर नज़र आए। परवाना नाम की इस साइकोलॉज़िकल फ़िल्म को ज्योति स्वरूप ने डायरेक्ट किया था। अमिताभ के सामने हीरो के तौर पर नवीन निश्चल थे। अमिताभ ने इसमें एक प्रेमी का किरदार निभाया था, जो बाद में मर्डरर बना जाता है। इसमें कुमार सेन (अमिताभ) एक यात्रा के दौरान कई ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल कर एक हत्या को अंजाम देता है। जो इस फ़िल्म को रोमांच से भर देती है।

4.अलाप 

ऋषिकेश मुखर्जी ने साल 1977 में अमिताभ बच्चन को लेकर एक फ़िल्म बनाई, इसका नाम था अलाप। इसमें फ़िल्म में अमिताभ के अपोज़िट रेखा ने काम किया था, जिसमें अमिताभ ने एक ईमानदार वकील की भूमिका निभाई थी। यह फ़िल्म फ़्लॉप रही। कहा जाता है कि एक सीन में असरानी ने अमिताभ बच्चन को पीट दिया था, इस बात को फैंस पचा नहीं पाए।

5.एक नज़र

अमिताभ बच्चन और जया बच्चन की इस फ़िल्म के बारे में लोग कम जानते हैं। साल 1972 में आई इस फ़िल्म को बी.आर. इशारा ने डायरेक्ट किया था। इसमें अमिताभ एक अमीर बाप के कवि बेटे बने थे, जिसे एक प्रॉस्टिट्यूट से प्यार हो जाता है। कुल मिलाकर इस फ़िल्म की कहानी इसी के आस-पास बुनी गई है।

Posted By: Rajat Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस