अनुप्रिया वर्मा, मुंबई. अमिताभ बच्चन को लेकर मराठी सिनेमा के बड़े निर्देशक नागराज मंजुले लंबे समय से फिल्म बनाना चाह रहे थे. उनकी लंबे समय से इस फिल्म को लेकर चर्चा चल रही थी. लेकिन अब तक इस खबर की पुष्टि हुई नहीं थी. अब इसकी घोषणा हो गयी है.

खबर कंफर्म हो चुकी है कि अमिताभ नागराज मंजुले की पहली हिंदी फिल्म का हिस्सा बनने जा रहे हैं. जी हाँ, इस फिल्म का निर्देशन नागराज ही करेंगे. फिल्म का नाम झुंड होगा. खबर है कि इस फिल्म में अमिताभ बच्चन का किरदार एक रिटायर्ड स्पोर्ट्स टीचर की भूमिका वाला होगा, जो कि एक स्लम में सॉकर मूवमेंट की शुरुआत करेंगे. फिल्म की शूटिंग की शुरुआत भी जल्द ही होगी. फिल्म का निर्माण भूषण कुमार कर रहे हैं. खुद नागराज भी फिल्म के निर्माताओं में से एक रहेंगे. बता दें कि इससे पहले भी अमिताभ बच्चन ने और भी कई फिल्मों में एक टीचर की भूमिका निभाई है. और उनकी वे फिल्में कामयाब भी रही हैं. उन्होंने ब्लैक फिल्म में टीचर की भूमिका निभाई रही है. याद करें तो उनकी सदाबहार फिल्म चुपके चुपके में भी बॉटनी के प्रोफ़ेसर की भूमिका में थे. प्रकाश झा की फिल्म आरक्षण में भी टीचर की भूमिका निभाई थी.ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि अमिताभ इस फिल्म में किस तरह इस किरदार को निभाते हैं. इन फिल्मों के अमिताभ अलावा सुजोय घोष की फिल्म में तापसी पन्नू के साथ नजर आने वाले हैं. इन दिनों महबूब स्टूडियो में वह ब्रह्मास्त्र की शूटिंग आलिया और रणबीर कपूर के साथ कर रहे हैं.

कुछ दिनों पहले हमने आपको बताया था कि अमिताभ बच्चन और तापसी पन्नू फिर से बड़े परदे पर साथ आ रहे हैं। इस फिल्म को कहानी जैसी सस्पेंस फिल्म बना चुके सुजॉय घोष डायरेक्ट करेंगे। फिल्म एक जबरदस्त क्राइम थ्रिलर होगी और फिलहाल इसका नाम 'बदला' रखा गया है। इस फिल्म को सुनीर खेत्रपाल प्रोड्यूस करेंगे और शूटिंग इस साल जून से शुरू होगी। ये फिल्म करीब दस साल बाद शुरू होगी l सुजोय घोष ने स्क्रिप्ट लिख रखी थी लेकिन उन्हें बदला नाम नहीं मिल रहा था क्योंकि ये टायटल किसी और निर्माता के पास था l फिल्म की कहानी में तीन प्रमुख पात्र होंगे l इनमे से दो अमिताभ और तापसी निभा रहें हैं l हालांकि सुजोय की ओरिजनल च्वायस विद्या बालन थीं l तीसरे रोल के लिए नसीरुद्दीन शाह ने सहमति दी थी जो पहली बार अमिताभ बच्चन के साथ काम करने वाले थे l जानकारी के मुताबिक बदला दो आदमियों की कहानी है जो एक दूसरे से बदला लेने की कसम के साथ उम्र में बड़े होते जाते हैं लेकिन जब बदले का असली समय आता है तो उनके लिए बदला लेने की परिभाषा ही बदल जाती है l

यह भी पढ़ें: स्त्री का Teaser: राजकुमार और श्रद्धा की इस झलक में ये कैसा रहस्य

Posted By: Manoj Khadilkar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस