अनुप्रिया वर्मा, मुंबई। टेबल नंबर 21 में अभिनय कर चुकीं टीना देसाई इन दिनों सुजोय घोष की स्टार प्लस पर टेलीकास्ट होने वाली शॉर्ट फिल्म का हिस्सा हैं। टीना बताती हैं कि वह भले ही इन दिनों बॉलीवुड की फिल्मों में नजर न आ रही हों, लेकिन विदेशों में वह काफी प्रोजेक्ट्स में व्यस्त हैं। वह साइंस फिक्शन सेन्स 8 का हिस्सा हैं।

वह बताती हैं कि यह एक आठ लोगों की कहानी है, जो कि अजनबी रहते हैं और फिर भी एक घटना के कारण एक दूसरे से जुड़ जाए हैं और पूरी दुनिया घूमते हैं। टीना कहती हैं कि उन्हें वहां काम करने में मजा आ रहा है। चूंकि उन्हें ऐसे सब्जेक्ट्स चुनने के मौके मिल रहे हैं, जिसमें उन्हें दुनिया के कई देशों में घूमने में मजा आ रहा है। टीना का मानना है कि वहां काम का कल्चर काफी अच्छा है। लोग इस बात पर आपको अॉफर देते हैं कि आप किरदार में कितने फिट बैठ रहे। ऐसे में जब जागरण डॉट कॉम ने उनसे जानने की कोशिश की कि प्रियंका चोपड़ा ने हाल ही में यह राज खोला कि उन्हें एक फिल्म का हिस्सा बनने का मौका नहीं मिला, क्योंकि वह अंग्रेज नहीं हैं। इस मामले में टीना अलग ही सोच रखती हैं। वह कहती हैं कि उन्हें कभी भी विदेश में इस तरह के नस्लवाद का सामना नहीं करना पड़ा है। वह कहती हैं कि अगर किसी किरदार के लिए व्हाइट पर्सन की ही जरूरत है तो जाहिर है उनकी ही कास्टिंग होगी। हर बात की वजह होती है। हो सकता है कि जिस किरदार के लिए कास्टिंग हो रही हो, वह मुझसे मेल नहीं खाए तो इसे रंगभेद नहीं कह सकते। 

यह भी पढ़ें: गॉड तुस्सी ग्रेट हो: दो साल बाद प्रियंका चोपड़ा का दिल लगा 'भारत' में

टीना कहती हैं कि उन्हें आश्चर्य होता है, जब बॉलीवुड में इस मामले को लेकर सवाल खड़े किये जाते हैं, क्योंकि उन्हें कभी भी इस परेशानी का सामना नहीं करना पड़ा है। उनका तो कहना है कि उन्हें हमेशा ही काफी प्यार और इज्जत ही मिली है विदेश में। 

यह भी पढ़ें: अखंड भारत के पहले बाग़ी की फिल्म में ‘बाहुबली तमन्ना’ भी

By Rahul soni