नई दिल्ली, जेएनएन। देशभर में कोविड 19 वायरस की रोकथाम के लिए लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में तमाम लोग ज़रूरतमंदों की मदद के लिए आगे आये हैं। इनमें फ़िल्मी हस्तियां भी शामिल हैं। अक्षय कुमार, सलमान ख़ान, शाह रुख़ ख़ान, अजय देवगन से लेकर छोटे-बड़े सभी कलाकारों ने किसी ना किसी रूप में मदद की है। कुछ दिन पहले आमिर ख़ान का भी एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था, जिसमें दिखाया गया था कि गेहूं के बैग्स में नोट रखकर लोगों को दिये जा रहे हैं। अब आमिर ख़ान ने अपने इस चैरिटी वीडियो की सच्चाई से पर्दा उठाया है।

वीडियो इंटरनेट पर ख़ूब देखा गया था। अब आमिर ने ख़ुद ट्वीट करके इस वीडियो को फेक बताया है। आमिर ने लिखा- साथियों, गेहूं के बैग्स में पैसे रखने वाला व्यक्ति मैं नहीं हूं। या तो यह पूरी तरह फ़र्ज़ी स्टोरी है या फिर रॉबिनहुड अपना नाम उजागर नहीं करना चाहता होगा। सुरक्षित रहिए। 

टिकटॉक पर बनाये गये इस वीडियो में दिखाया गया था कि आमिर ने ट्रकभर कर गेहूं का आटा भेजा है। वीडियो में दावा किया गया कि ट्रक 23 अप्रैल को दिल्ली में ग़रीबों के बीच पहुंचा था। कुछ लोगों ने पैकेट लेने से मना कर दिया था, क्योंकि उन्हें लगा कि एक किलो आटे से क्या होगा, मगर जिन्होंने घर जाकर पैकेट खोला तो हैरान रह गये। हर पैकेट से 15000 रुपये कैश निकला। 

आमिर ख़ान ने लॉकडाउन के दौरान पीएम केयर्स फंड, महाराष्ट्र मुख्यमंत्री राहत कोष, फिल्म वर्कर्स एसोसिएशन और कुछ एनजीओ को दान दिया था। हालांकि उन्होंने कहीं भी सोशल मीडिया में इसका प्रचार नहीं किया था। बाद में आमिर के क़रीबियों की तरफ़ से बताया गया था कि अपनी निर्माणाधीन फ़िल्म 'लाल सिंह चड्डा' में काम करने वाले डेली वेज वर्कर्स को सपोर्ट करने के लिए भी आर्थिक सहयोग किया है ताकि लॉकडाउन के दौरान शूटिंग ना होने पर उनके सामने परिवार पालने का संकट ना खड़ा हो। हालांकि, आमिर ने दान की गयी राशि का खुलासा नहीं किया।

Posted By: Manoj Vashisth

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस