कोलकाता, जेएनएन। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को पश्चिम बंगाल के बांकुरा में जनसभा को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी की चोट का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी को लगी चोट के मामले की जांच होनी चाहिए। तृणमुल जहां इसे साजिश करार दे रही है तो वहीं चुनाव आयोग इसे साजिश मानने से इनकार कर रहा है। गृहमंत्री ने कहा कि लेकिन भाजपा के उन कार्यकर्ताओं का क्या, जिनकी जान चली गई। उन्होंने कहा कि मै आपकी चोट के ठीक होने की कामना करता हूं लेकिन अच्छा होता अगर आप भी भाजपा के उन कार्यकर्ताओं के बारे में कुछ सोचती जिनकी मौत हो गई। 

उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी को हाल ही में चोट लगी है और उन्हें दर्द हो रहा है, लेकिन तृणमूल कांग्रेस शासन द्वारा हत्या किए गए भाजपा कार्यकर्ताओं के परिवारों की तकलीफ का क्या? उन्होंने कहा कि अगर भाजपा सत्ता में आयी तो पश्चिम बंगाल में सरकारी कर्मचारियों के लिए सातवां वेतन आयोग लागू किया जाएगा।

बंगाल में केवल भ्रष्टाचार, टोलबाजी, राजनीतिक हिंसा और घुसपैठ 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पश्चिम बंगाल के झारग्राम में जनसभा को संबोधित करते हुए गृह मंत्री ने कहा कि बंगाल में 10 साल से टीएमसी की सरकार ने बंगाल को पाताल तक नीचे ले जाने का काम किया है। हर चीज में भ्रष्टाचार, टोलबाजी, राजनीतिक हिंसा, घुसपैठ ने पूरे बंगाल के विकास को तहत-नहस कर दिया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने 10 साल के दीदी के शासन में 115 से ज़्यादा योजनाएं पहुंचाई, ये योजनाएं आप तक नहीं पहुंच रही हैं। इसका सबसे बड़ा रोड़ा तृणमूल की सरकार है।

Edited By: Sanjeev Tiwari