नई दिल्ली, जेएनएन। बंगाल और असम विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शनिवार को होगा। बंगाल में जहां पांच जिलों बांकुड़ा, पुरुलिया, झारग्राम, पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर की 30 सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे, वहीं असम की 47 सीटों पर मतदाता 264 प्रत्याशियों का भाग्य तय कर देंगे। बंगाल में प्रथम चरण में कुल 191 उम्मीदवार मैदान में हैं। मतदान केंद्रों पर कोरोना संक्रमण से बचाव के विशेष इंतजाम किए गए हैं।

असम में इन दिग्‍गजों की प्रतिष्‍ठा दांव पर 

असम में पहले चरण का मतदान कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा। दरअसल, राज्य की जिन 47 सीटों पर वोट डाले जाएंगे, उन पर मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल, स्पीकर हितेंद्रनाथ गोस्वामी, कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष रिपुन बोरा और राज्य सरकार के कई मंत्री चुनाव लड़ रहे हैं। राज्य विधानसभा में कुल 126 सीटें हैं। इन पर 27 मार्च, एक अप्रैल और छह अप्रैल को मतदान होगा। बंगाल में आठ चरण में चुनाव होगा।

सख्‍त सुरक्षा के बीच मतदान

बंगाल में पहले चरण के 30 में से सात निर्वाचन क्षेत्रों को संवेदनशील घोषित किया गया है। यही वजह है कि शांतिपूर्ण चुनाव कराने को 684 कंपनियों की तैनाती की जाएगी। पुरुलिया में सर्वाधिक 185, झाड़ग्राम में 144, पूर्व मेदिनीपुर में 148, पश्चिम मेदिनीपुर में 124 व बांकुड़ा में 83 कंपनियों की तैनाती की जाएगी। झाड़ग्राम के प्रत्येक बूथ में केंद्रीय बल के 11 जवान तैनात रहेंगे, जो बंगाल में अब तक हुए किसी भी चुनाव में सर्वाधिक है।

बूथ के पास मोर्चा संभालेंगे जवान

बंगाल में सिर्फ बूथ मैनेजमेंट के लिए 127 कंपनियों की तैनाती की जाएगी। केंद्रीय बल की 14 कंपनियों का क्विक रिस्पांस टीम के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा। राज्य पुलिस के 173 इंस्पेक्टर, 2661 सब-इंस्पेक्टर 4012 आ‌र्म्ड कांस्टेबल और 1276 महिला कांस्टेबल को भी चुनावी ड्यूटी में लगाया जाएगा। केंद्रीय बल के जवान बूथ व आसपास मोर्चा संभालेंगे जबकि राज्य पुलिस कानून व्यवस्था को सुव्यवस्थित रखने का काम करेगी।

27 पर था तृणमूल का कब्जा

पिछले विधानसभा चुनाव में उक्त 30 सीटों में से 27 पर तृणमूल कांग्रेस ने कब्जा जमाया था। कांग्रेस ने दो व आरएसपी ने एक सीट जीती थी। भाजपा का पिछले विधानसभा चुनाव में इन सीटों पर खाता नहीं खुल पाया था। इस बार कुल 30 सीटों में से 11 अनुसूचित जाति/जनजाति के लिए सुरक्षित हैं।

बंगाल में कितने जिलों की कितनी सीटों पर मतदान

07-पूर्व मेदिनीपुर

06-पश्चिम मेदिनीपुर

04 -झाड़ग्राम

09 - पुरुलिया

04 -बांकुड़ा

ये हैं हॉट सीटें

मेदिनीपुर: मेदिनीपुर नाम से विधानसभा व लोकसभा सीटें दोनों हैं। विधानसभा सीट पर पिछले एक दशक से तृणमूल का कब्जा है, जबकि लोकसभा सीट पिछले संसदीय चुनाव में उसके हाथों से फिसल गई। बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष यहां से सांसद हैं। इस विधानसभा क्षेत्र के बदले सियासी हालात को देखते हुए तृणमूल ने इस बार दो बार के विधायक मृगेंद्रनाथ माइती की जगह बांग्ला फिल्म अभिनेत्री जून मालिया को टिकट दिया है, जिनका मुकाबला भाजपा के शमित दास और माकपा के तरुण कुमार घोष से है।

खड़गपुर: पिछले विधानसभा चुनाव में तृणमूल ने यह सीट माकपा से छीन ली थी। तृणमूल ने एक बार फिर यहां पिछली बार के विजयी प्रत्याशी दिनेन राय को उतारा है, जिनकी भाजपा के तपन भुइयां और माकपा के शेख सद्दाम अली से जोरआजमाइश है।

कांथी उत्तर: इस सीट पर तृणमूल ने पिछले विधानसभा चुनाव में कब्जा जमाया था। यहां भी तृणमूल ने प्रत्याशी बदलते हुए बनश्री माइती की जगह तरुण कुमार जाना को खड़ा किया है, जिनका भाजपा की सुनीता सिन्हा और माकपा के शांतनु माइती से मुकाबला है।

कांथी दक्षिण : 2016 के विधानसभा चुनाव में तृणमूल के दिब्येंदु अधिकारी यहां से जीते थे। उनके सांसद निर्वाचित होने पर 2017 में यहां हुए विधानसभा उपचुनाव में सत्ताधारी दल की चंद्रिमा भट्टाचार्य यहां से जीती थीं। इस बार तृणमूल ने ज्योतिर्मय कर को टिकट दिया है, जिनका भाजपा के अरूप कुमार दास और माकपा के अनुलूप पांडा से मुकाबला है।

बाघमुंडी : बाघमुंडी को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। पार्टी के वरिष्ठ नेता नेपाल महतो पिछले दो बार से यहां जीतते आ रहे हैं और हैट्रिक की जुगत में हैं। उन्हें इस बार तृणमूल के सुशांत महतो और भाजपा समर्थित अजसू के आशुतोष महतो चुनौती दे रहे हैं।

बंगाल में प्रथम चरण में चर्चित उम्मीदवार

तृणमूल कांग्रेस: श्रीकांत महतो, राजीव लोचन सरेन, उत्तम बारीक, दिनेन राय व जून मालिया।

भाजपा: रवींद्रनाथ माइती, चंदना बाउड़ी व राजीव कुंडु।

कांग्रेस: नेपाल महतो, उत्तम बनर्जी, पार्थ प्रतिम बनर्जी व मानस कुमार करमहापात्र।

असम में 81 लाख मतदाता डालेंगे वोट

ऊपरी असम और ब्रह्मपुत्र नदी के किनारों पर स्थित 12 जिलों की 47 सीटों पर शनिवार को मतदान होगा। इन सीटों पर कुल 81.09 लाख मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। कुल 264 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा, जिनमें 23 महिला उम्मीदवार हैं।

कोरोना संक्रमण से बचाव खास इंतजाम

कोरोना संक्रमण के खतरे के चलते मतदान का समय एक घंटा बढ़ाकर सुबह सात बजे से शाम छह बजे किया गया है। कानून-व्यवस्था की स्थिति दुरुस्त बनाए रखने के लिए राज्य पुलिस की मदद के लिए केंद्रीय बल भी तैनात किए हैं। जिन 47 सीटों पर मतदान होगा, उनमें 39 पर भाजपा चुनाव लड़ रही है, बाकी पर उसकी सहयोगी अगप दो-दो हाथ कर रही है। मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल माजुली (सुरक्षित) सीट से चुनाव लड़ रहे हैं।