लखनऊ (जेएनएन)। विधानसभा चुनाव फतेह करने के लिए राजनीतिक दलों ने खूब ताकत लगाई। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों की भी धूम रही। अब तक करीब डेढ़ दर्जन रैलियां कर चुके मोदी अभी पांच और रैलियां करेंगे।  भाजपा उम्मीदवारों की ओर से प्रधानमंत्री की रैलियों की मांग बढ़ी है। छठे और सातवें चरण का चुनाव होना है। सोमवार को मोदी ने छठे चरण में आने वाले मऊ जिले में रैली की जिसमें बलिया और आजमगढ़ के भी उम्मीदवारों को जिताने की अपील की।

यह भी पढ़ें- अमर सिंह ने पीएम मोदी को बताया भगवान कृष्ण का अवतार, आजम के विनाश की प्रार्थना

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता शलभमणि त्रिपाठी ने बताया कि अब वह एक मार्च को महराजगंज और देवरिया की रैली को संबोधित करेंगे। फिर उनका रुख सातवें चरण के चुनाव की ओर होगा। भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चंद्रमोहन ने बताया कि सातवें चरण में प्रधानमंत्री की तीन मार्च को मीरजापुर, चार मार्च को जौनपुर और पांच मार्च को वाराणसी में रैली प्रस्तावित है। छठे और सातवें चरण में कुल 89 विधानसभा क्षेत्रों में चुनाव होना है।
उल्लेखनीय है कि चुनाव अधिसूचना जारी होने के बाद मोदी ने चार जनवरी को मेरठ से रैली की शुरुआत की थी।

यह भी पढ़ें- यूपी विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण में भी आपराधिक छवि के नेताओं की कमी नहीं

फिर अलीगढ़, गाजियाबाद, बिजनौर, बदायूं, लखीमपुर खीरी, कन्नौज, हरदोई, बाराबंकी, फतेहपुर, उरई, इलाहाबाद, गोंडा, बहराइच, बस्ती और मऊ की रैलियों को संबोधित किए। प्रधानमंत्री ने सर्वाधिक पांच रैलियां अवध क्षेत्र में की हैं। उन्होंने यहां खीरी, हरदोई, बाराबंकी, गोंडा और बहराइच में रैलियां की हैं। अमूमन भाजपा के एक सांगठनिक क्षेत्र में प्रधानमंत्री की दो-दो रैलियां प्रस्तावित थी लेकिन बाद में इसकी संख्या बढ़ा दी गई।
 

 यह भी पढ़ें- यूपी चुनाव: पांचवें चरण में भी आधी आबादी को नहीं मिला पूरा हक

यह भी पढ़ें- यूपी चुनाव: लालू प्रसाद यादव ने कहा, भाजपा मतलब भारत जलाओ पार्टी

यह भी पढ़ें- यूपी चुनाव: पीएम मोदी को अखिलेश की चुनौती, काम और विकास पर करें बहस

यह भी पढ़ें- Elections 2017: सरहद पार रची गई कानपुर ट्रेन हादसे की साजिश

 

 

Posted By: Ashish Mishra