वाराणसी, जेएनएन। चुनावी व्यस्तताओं के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार सुबह अस्सी घाट पहुंचे जहां से उन्होंने देश को स्वच्छता का संदेश दिया था। यहां अपने संसदीय क्षेत्र की पहचान से जुड़े सुबह-ए-बनारस की झलक ली। कुल्हड़ में नींबू वाली चाय की चुस्कियां भी ली। क्रूज पर सवार हुए और गंगा के गले में चंद्रहार सी सजी घाट श्रृंखला की छटा निहारी। पीएम का काफिला सुबह 7.22 बजे अस्सी घाट पहुंचा।

सुबह-ए-बनारस के मंच से पाणिनि कन्या महाविद्यालय की ऋषिकाओं ने मंगलाचरण व स्वस्ति वाचन कर राष्ट्र कल्याण व उनकी विजय कामना की। घाट पर ही पीएम ने एक निजी चैनल के साक्षात्कार में पांच साल के प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की। इसमें स्वच्छता अभियान, गंगा सफाई, पर्यटन विस्तार, नोटबंदी, जीएसटी, भ्रष्टाचार तथा बेरोजगारी से लेकर आतंकवाद, सर्जिकल-एयर स्ट्राइक सहित चायवाले व चौकीदार तक पर बातचीत की। इसके बाद पीएम ने वहां मौजूद लोगों का अभिवादन किया। टहलते हुए घाट की तरफ लगी जेटी पर गए और मां गंगा को प्रणाम किया। इस दौरान पास से गुजर रही जलपरी पर सवार सैलानियों ने हर हर महादेव व मोदी-मोदी के नारे लगाए। वे 8.20 बजे क्रूज पर सवार हुए और 40 मिनट तक जल विहार किया।

काशी आपकी, परंपरा आगे बढ़ाएं पीएम मोदी ने वापसी के दौरान पद्मश्री डा. सरोज चूड़ामणि व मंजू मिश्रा के नेतृत्व में स्वागत के लिए खड़ी सुबह- ए-बनारस की महिला टीम के साथ ग्रुप फोटो कराया। मंजू मिश्रा ने पीएम से कहा कि काशी आपको पाकर धन्य हो गई, आप फिर जीत कर आ रहे हैं। इस पर मोदी ने मुस्कुराते हुए कहा कि काशी तो आप लोगों की है और अस्सी की इस परंपरा को आप लोग आगे बढ़ाएं। लगभग चार वर्षो से अनवरत चल रहा सुबह-ए-बनारस कार्यक्रम अब अस्सी घाट की पहचान बन चुका है। पीएम का काफिला होटल डी पेरिस के लिए रवाना हो गया।

बैरिकेडिंग होने के बावजूद घुसे कुत्ते, पुलिस परेशान : अस्सी घाट पर जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टहल रहे थे तभी बैरिकेडिंग की व्यवस्था होने के बावजूद दो कुत्ते घुस गए। उन्हें निकालने में पुलिस व एसपीजी को काफी मशक्कत करनी पड़ी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप