लखनऊ ( जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के चुनाव नतीजे भाजपा के पक्ष में आए हैं लेकिन अगर परंपरा को देखें तो अखिलेश यादव के मुख्यमंत्री बनने में पहले ही संदेह जताया जा रहा था। यूपी के मुख्यमंत्रियों के इतिहास में 
कांग्रेस गोविंद वल्लभ पंत से लेकर अखिलेश यादव तक कोई लगातार दोबार इस कुर्सी पर नहीं बैठ पाया। अब इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी के सीएम के बैठने की बारी है। उल्लेखनीय है कि यूपी में अब तक 20 व्यक्ति मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इनके अतरिक्त, तीन लोग राज्य के कार्यकारी मुख्यमंत्री रहे हैं जिनका कार्यकाल बहुत छोटा रहा है। वर्तमान मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 15 मार्च 2012 से इस पद पर आसीन हुए। इस दौरान यूपी में दस बार राष्ट्रपति शासन भी लगा।
अब तक के मुख्यमंत्री
पहली विधानसभा को 1952–57 तक गोविंद वल्लभ पंत के रूप में मुख्यमंत्री मिला। दूसरी विधानसभा 1957–62 तक चली इसमें सम्पूर्णानंद मुख्यमंत्री बने। इसके बाद चंद्रभानु गुप्ता, सुचेता कृपलानी, चंद्रभानु गुप्ता,चरण सिंह, चंद्रभानु गुप्ता, चरण सिंह,त्रिभुवन नारायण सिंह, कमलापति त्रिपाठी, हेमवती नंदन बहुगुणा, नारायण दत्त तिवारी, राम नरेश यादव, बनारसी दास, विश्वनाथ प्रताप सिंह, श्रीपति मिश्र, नारायणदत्त तिवारी, वीर बहादुर सिंह, नारायणदत्त तिवारी, मुलायम सिंह यादव, कल्याण सिंह, मुलायम सिंह यादव, मायावती, राष्ट्रपति शासन, मायावती, कल्याण सिंह,रामप्रकाश गुप्त, राजनाथ सिंह, मायावती, मुलायम सिंह यादव मायावती, अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री पद संभाला लेकिन कोई दोबारा इस कुर्सी पर नहीं बैठा।
भाजपा के सीएम की बारी
अब भाजपा की सरकार गठन की बारी है। इसमें दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है। मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में पहला नाम गृहमंत्री राजनाथ सिंह का है। इसके बाद लखनऊ के महापौर और भारतीय जनता पार्टी उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा की चर्चा है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष होने के नाते केशव प्रसाद मौर्य की दावेदारी भी कहीं से कम नहीं है। पूर्वांचल की राजनीति के खास चेहरे केंद्रीय मंत्री मनोज सिन्हा की तारीफ तो पीएम मोदी भी करते रहे हैं। पूर्वांचल से ही दूसरा नाम दमखम वाले नेता योगी आदित्यनाथ का है। उनकी छवि का इस्तेमाल चुनावों में भी जमकर किया जाता रहा है। उमा भारती का उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के अहम दावेदारों में है। वह मध्य प्रदेश की मुख्यमंत्री भई रह चुकी है। स्मृति ईरानी भी एक ऐसा ही नाम है जो पार्टी और जनता की पसंद बन चुका है। 

Posted By: Nawal Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस