नई दिल्‍ली, एजेंसियां। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को तमिलनाडु के कन्‍याकुमारी में एक जनसभा को संबोधित करते हुए द्रमुक और कांग्रेस पर करारा हमला बोला। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा ध्यान विकास पर है जबकि द्रमुक और कांग्रेस ने खुद को एक वंश क्लब में तब्‍दील कर लिया है। वे सभी अपने बच्चों और पोते पोतियों को सियासत में स्‍थापित करना चाहते हैं। वे आपके बेटों और बेटियों को लेकर परेशान नहीं हैं। हम सुशासन समर्थक हैं। हमने लंबे समय से लंबित मुद्दों को ठीक किया है।  

मुंबई-कन्याकुमारी आर्थिक गलियारे पर जोर 

पीएम मोदी ने कहा कि इस साल के बजट में हमने मुंबई-कन्याकुमारी आर्थिक गलियारे पर जोर दिया है। तमिलनाडु में सड़क और कनेक्टिविटी से जुड़े इन्फ्रास्‍ट्रक्‍चर को अपग्रेड करने पर एक लाख करोड़ रुपये खर्च होंगे। मौजूदा वक्‍त में विपक्ष ने खुद को एक वंश क्लब में तब्‍दील कर लिया है। वे सभी सियासत में अपने बच्चों और पोते पोतियों की स्थिति सुरक्षित करना चाहते हैं। वे आपके बेटे और बेटियों के बारे में परेशान नहीं हैं। हमने तमिलनाडु में डॉ. कलाम के लिए एक स्मारक बनाया है।

हमारी सरकार जाति नहीं देखती 

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा मानना है कि राष्‍ट्र हर भारतीय की मेहनत से बनता है राजवंशों की पीढ़ियों से नहीं... तमिलनाडु में स्थिति ऐसी है कि डीएमके के वरिष्ठ नेता उस पार्टी में नए बने ताज के कारण घुटन महसूस कर रहे हैं। राजनीति इस तरह से काम नहीं करती है। राष्ट्र की मनोदशा स्पष्ट रूप से भाई-भतीजावाद की राजनीति के खिलाफ है। विपक्ष को लोग अलोकतांत्रिक कहना पसंद करते हैं। इसका मूल्‍यांकन उन्‍हें खुद करना चाहिए। हमारी सरकार लोगों की सेवा करने से पहले उनकी जातियों और पंथ को नहीं देखती है।  

तटीय विकास के लिए हमारे पास तीन मॉडल

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि तटीय विकास के लिए हमारे पास तीन मॉडल हैं। हम ब्लू इकोनॉमी को मजबूती देकर मछुआरों की आमदनी को बढ़ा रहे हैं। मछुआरों को बेहतर नावें, नेविगेशन प्रणाली मिल रही हैं। समुद्री खेती को प्रोत्साहित किया जा रहा है। बंदरगाहों के विकास और आधुनिक बुनियादी ढांचे को मजबूती देकर लोगों के लिए अवसर बढ़ाने का काम हो रहा है। बंदरगाहों की क्षमता बढ़ाई जा रही है। नए बंदरगाहों की योजनाएं बनाई जा रही है। इन पहलकदमियों से स्थानीय लोगों को अधिक रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

महिलाओं का अपमान कर रहा विपक्ष 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मदुरई में भी एक चुनावी जनसभा को संबोधित किया। उन्‍होंने एक बार फिर द्रमुक और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि उनके नेता महिलाओं का अपमान करने से बाज नहीं आ रहे हैं जबकि राजग की योजनाओं का लक्ष्य महिलाओं को सशक्त बनाना है। प्रधानमंत्री ने कहा कि दिवंगत मुख्यमंत्री एमजी रामचंद्रन का समावेशी विकास और समृद्ध समाज का विजन हमें प्रेरित करता है। 

द्रमुक और कांग्रेस के पास कोई एजेंडा नहीं 

द्रमुक और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उनके पास बात करने के लिए कोई एजेंडा ही नहीं है। उनके शासन में न तो सुरक्षा की गारंटी होगी, न लोगों के सम्मान की और कानून-व्यवस्था की स्थिति बदतर रहेगी। द्रमुक के प्रथम परिवार में विवाद की वजह से इस पार्टी ने शांतिप्रिय मदुरई को माफिया के अड्डे में तब्दील करने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों को अपने झूठ पर लगाम लगानी चाहिए क्योंकि लोग मूर्ख नहीं हैं।

हमारी सरकार ने जल्लीकट्टू को दी मंजूरी 

जल्लीकट्टू को लेकर द्रमुक व कांग्रेस की आलोचना करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस के नेतृत्व वाले संप्रग ने 2011 में इस पर प्रतिबंध लगाया था और उस समय द्रमुक के पास केंद्र सरकार में बड़े मंत्रालय थे। प्रधानमंत्री ने कहा, 'कांग्रेस और द्रमुक लगातार यह दिखाते हैं कि सिर्फ वे ही तमिल संस्कृति के संरक्षक है जबकि तथ्य कुछ और ही बयां करते हैं।' उन्होंने कहा, 'हमारी सरकार ने जल्लीकट्टू के आयोजन के लिए अन्नाद्रमुक सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश को मंजूरी प्रदान की।'

कांग्रेस और द्रमुक काम नहीं करने में पारंगत 

कांग्रेस और द्रमुक पर काम नहीं करने की कला में पारंगत होने और उसके बाद काम करने वालों के बारे में झूठ फैलाने का आरोप लगाते हुए मोदी ने कहा कि मदुरई के लिए स्वीकृत एम्स इसका उदाहरण है। कई साल सत्ता में रहने के बावजूद कांग्रेस और द्रमुक ने इसके बारे में सोचा तक नहीं। हमारी सरकार यहां एम्स लेकर आई। प्रधानमंत्री ने आश्वस्त किया कि सभी परियोजनाओं को समुचित प्रक्रिया के मुताबिक पूरा किया जाएगा।

दोनों ही फ्रंट से उकता गए लोग

केरल के पथानमथिट्टा जिले के कोन्नी में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने सत्तारूढ़ लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) और विपक्षी यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) दोनों पर निशाना साधा। मोदी ने कहा कि राज्य के लोग दोनों ही फ्रंट से उकता गए हैं और विकास का भाजपा का एजेंडा पसंद कर रहे हैं। 

केरल की सियासत में गेम चेंजर है श्रीधरन की मौजूदगी 

प्रधानमंत्री ने कहा, 'पेशेवर समुदाय भाजपा की सराहना कर रहा है। वे कह रहे हैं कि भाजपा प्रगतिशील और शिक्षित लोगों को राजनीति में लाती है। मेट्रोमैन ई. श्रीधरन जैसे सम्मानीय पेशवर की सक्रिय उपस्थिति केरल की राजनीति में गेम चेंजर है। जिस व्यक्ति ने वर्षो में काफी कुछ हासिल किया और जिसने भारत की प्रगति में तेजी लाई उसने समाज की सेवा के लिए भाजपा का चुनाव किया।'

विजयन सरकार की आलोचना की 

अपने भाषण की शुरुआत तीन बार 'स्वामी शरणनम् अयप्पा' बोलकर करने के बाद मोदी ने सबरीमाला मंदिर मुद्दे से निपटने के तरीके पर पिनराई विजयन सरकार की आलोचना की जिसने भगवान अयप्पा के भक्तों पर लाठियां बरसाईं थीं। प्रधानमंत्री ने कहा कि भगवान अयप्पा के स्थान पर आकर वह काफी खुश हैं। भगवान अयप्पा से हमने सीखा कि सबका कल्याण कैसे करें। लेकिन वाम मोर्चे की सरकार ने क्या किया, उन्होंने केरल की संस्कृति को नष्ट करने और उसकी छवि को पिछड़े राज्य के रूप में प्रदर्शित करने की कोशिश की। भक्तों का स्वागत फूलों से करने के बजाय अपराधियों की तरह लाठियों से किया गया। दशकों से वामपंथी सरकार भारतीय संस्कृति को गलत तरीके से पेश करती रही है।