अलवर, महेश कुमार वैद्य। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अलवर से राजस्थान में चुनाव प्रचार का आगाज करते हुए कांग्रेस पर सुप्रीम कोर्ट के जजों को डराने का गंभीर आरोप लगाया। मोदी ने कहा कि कांग्रेस की कृपा से राज्यसभा में पहुंचे सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता पहले जहां अयोध्या मसले को लटकाने के लिए समय बढ़ाने की खुलेआम मांग करते रहे वहीं अब एक नई सोच सामने आ रही है। कांग्रेसी वकील राज्यसभा में संख्याबल के कारण अब महाभियोग के नाम पर सुप्रीम कोर्ट के जजों को डरा रहे हैं।

खचाखच भरे विजय नगर मैदान में मोदी जब कांग्रेस पर हमला कर रहे थे तब भीड़ शेम शेम के नारे लगा रही थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि न्यायमूर्तियों को किसी तरह का दबाव मानने की जरूरत नहीं है। हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता व गरिमा को कायम रखने के लिए वचनबद्ध हैं।

पाक पर तीखे शब्दबाण
मोदी ने पाकिस्तान पर भी तीखा कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि कल तक बम दागने की धमकी देने वाले आज कटोरा थाम कर खड़े हैं। यह हमारी रणनीति की जीत है।

विकास रहेगा चुनावी एजेंडा
प्रधानमंत्री ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि उनका चुनावी एजेंडा विकास होगा। उन्होंने खुली चुनौती दी कि विकास के मामले में वसुंधरा सरकार के पांच सालों की तुलना कांग्रेस सरकार के समय के पांच सालों से की जाए ताकि सच सभी के सामने आ सके। अपने भाषण के दौरान उन्होंने केंद्र व राज्य सरकार की उपलब्धियां बताईं। उन्होंने बिना नाम लिए राहुल गांधी पर तीखे कटाक्ष किए तथा बार-बार नामदार कहते हुए कहा कि पता नहीं कहां से इनके फटे कुर्ते की जेब से वादे निकाले जा रहे हैं। अगर इन लोगों को वादे पूरे करने होते तो वन रैंक वन पेंशन पहले ही लागू कर दी होती।

जातिवाद पर कांग्रेस को घेरा
जातिवाद की राजनीति को लेकर उन्होंने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जातिवाद की राजनीति करती रही है, लेकिन असलियत यह है कि दलित, पिछड़ा वर्ग व अन्य वंचित-शोषित वर्ग को कांग्रेस ने वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया है।

भाजपा जोड़ती, कांग्रेस तोड़ती है
मोदी ने कहा कि भाजपा जोड़ने का काम कर रही है, जबकि कांग्रेस तोड़ने का काम करती रही है। कांग्रेस की राज्य सरकारों में दलितों पर हमेशा अत्याचार बढ़े हैं। हरियाणा के मिर्चपुर व सोनीपत कांड तथा कर्नाटक के दलित हत्याकांड का जिक्र करते हुए उन्होंने कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों को कटघरे में खड़ा किया। रैली में दलित व पिछड़ा वर्ग कार्ड खेलते हुए मोदी ने दोनों वर्ग के लोगों को कांग्रेस से दूर रहने का अप्रत्यक्ष सन्देश दिया। मोदी ने राजस्थान में चुनावी हार की भविष्यवाणी करने वालों का नाम लिए बिना कहा कि जो लोग दिल्ली में बंद कमरों में बैठकर भविष्यवाणियां कर रहे हैं, उन्हें मैदान में आकर इस भारी जनसमूह को देख लेना चाहिए। राजस्थान इतिहास बनाने जा रहा है। भाजपा की काम करने वाली सोच को फिर जनता का समर्थन मिलेगा।

और भा गया धौक देने का अंदाज
प्रधानमंत्री ने अपने भाषण की शुरुआत राजस्थानी संवाद से की। उन्होंने राजा भर्तहरि की पावन धरा को नमन करते हुए ठेठ देहाती भाषा में कहा कि मैं महान दार्शनिक को "धोक" देता हूं। उनका यह अंदाज भीड़ को भा गया। मोदी ने पांडुपोल, नीमराना व अलवर के पौराणिक तथ्यों व इतिहास को याद किया। राजस्थान के सिंहद्वार कहलाने वाले अलवर से चुनाव प्रचार का आगाज करते हुए उन्होंने कहा कि सम्राट हेमू, महाराणा प्रताप, पृथ्वीराज चौहान की वीरता की धरती, पन्ना धाय के त्याग की धरती, मीरा की भक्ति की धरती, भामाशाह के समर्पण की धरती प्रणम्य है। माता नारायणी देवी व शयन मुद्रा में विराजमान वीर हनुमान के शुभ आशीर्वाद का भी जिक्र किया। माता नारायणी को सैन समाज की आस्था का प्रमुख केंद्र माना जाता है, जबकि शयन मुद्रा में विराजमान वीर हनुमान के दर्शन के लिए भी दूरदराज से लोग यहां पहुंचते हैं। उन्होंने 6 करोड़ 80 लाख राजस्थानियों से खुद को जोड़ते हुए विकास के लिए साथ मांगा।
 

यह भी पढ़ेंः जातिवाद पर पीएम मोदी ने कांग्रेस को दिया करारा जवाब

Posted By: Sachin Mishra