जयपुर, जागरण संवाददाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री उमा भारती और साध्वी ऋतंभरा की जाति पूछकर विवादों में आए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डॉ. सीपी जोशी को चुनाव आयोग ने क्लीन चिट दी है। नाथद्वारा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे जोशी के खिलाफ भाजपा द्वारा चुनाव आयोग में शिकायत की गई थी कि उन्होंने चुनावी सभा में वोट मांगने के लिए जाति और धर्म का इस्तेमाल किया है, जिसके बाद जांच अधिकारी ने प्रथम दृष्टया आरोप को प्रमाणित होना नहीं पाया है।

राजसमंद जिले के निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में बनी जांच कमेटी ने माना है कि शिकायत में बताए गए तथ्यों की पुष्टि नहीं हो रही है। कमेटी ने रिपोर्ट में लिखा है कि शिकायत के साथ प्रस्तुत वीडियो और शिकायतकर्ता की ओर से जवाब में प्रस्तुत वीडियो को देखने पर स्पष्ट होता है कि यह वीडियो सोशल मीडिया से लिए गए हैं जिनकी प्रमाणिकता संदेहास्पद है। इसमें ऐसा प्रतीत नहीं हो रहा है किसी भी धर्म जाति के आधार पर जोशी वोट मांग रहे हैं।

दरअसल, एक चुनावी सभा में उनके ब्राह्मणों पर दिए गए बयान को लेकर बवाल मचा था जिसमें उन्होंने कहा था कि ब्राह्मण हिंदू धर्म के बारे में सही बता सकता है, उमा भारती लोधी जाति की हैं, ऋतंभरा और मोदी की जाति क्या है किसी को पता नहीं है। राज्य निर्वाचन विभाग ने जोशी को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था जिसके जवाब में उन्होंने कहा था की वीडियो को काट-छांट कर गलत तरीके से प्रस्तुत किया जा रहा है, जबकि उन्होंने ऐसा नहीं कहा था ।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप