नई दिल्ली, प्रेट्र। नगालैंड और मेघालय में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हो गया। शाम चार बजे तक नगालैंड में 75 फीसद और मेघालय में 67 फीसद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। चुनाव आयोग के अधिकारी ने बताया कि मतदान समाप्त होने के बाद भी लोग कतार में लगे थे इसलिए अंतिम आंकड़े में बदलाव हो सकता है। पिछले विधानसभा चुनाव में नगालैंड में 90.57 फीसद और मेघालय में 89 फीसद मतदान हुआ था।

मेघालय और नगालैंड का परिणाम भी त्रिपुरा के साथ 3 मार्च को घोषित किया जाएगा। मेघालय के राज्यपाल गंगा प्रसाद ने शिलांग के ओकलैंड ए4 मतदान केंद्र में मतदान किया।

चुनाव आयोग में ओएसडी चंद्र भूषण कुमार ने कहा कि मेघालय में चुनाव के दौरान हिंसा की कोई घटना नहीं हुई। मेघालय में 59 सीटों के लिए 3,025 मतदान केंद्र बनाए गए थे। राकांपा प्रत्याशी की आठ फरवरी को मौत हो जाने के कारण विलिआमनगर (एसटी) में चुनाव स्थगित कर दिया गया। राज्य में 18 लाख मतदाताओं में नौ लाख से ज्यादा महिलाएं और 8.96 लाख पुरुष मतदाता हैं। यह राज्य उन कुछ चुने हुए राज्यों में शामिल है जहां महिलाओं की संख्या पुरुष मतदाताओं से ज्यादा है।

नगालैंड में झड़प के दौरान एक की मौत

नगालैंड में भी 59 सीटों के लिए मतदान कराया गया है। राज्य के अकलूतो में एक मतदान केंद्र के पास नगा पीपल्स फ्रंट और नैशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के गुटों के बीच हुए संघर्ष में एक व्यक्ति की मौत हो गई और दो घायल हो गए। इसके अलावा मोन जिले के तिजित गांव के मतदान केंद्र पर चुनाव शुरू होने से करीब एक घंटा पहले एक विस्फोट हुआ था। सुबह करीब पांच बजकर 45 मिनट पर मतदान केंद्र पर एक देसी बम फेंका गया। इसमें ग्रामीण परिषद का एक सदस्य यानलून मामूली रूप से घायल हो गया।

उत्तर-पूर्व में भाजपा की पैर पसारने की कोशिश

असम, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में सरकारों के गठन से उत्साहित, भाजपा उत्तर-पूर्व में अपने पदचिह्न का विस्तार करने की कोशिश में लगी हुई है। कांग्रेस के लिए, मेघालय में चुनाव परिणाम विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि पार्टी राज्य में पिछले 10 वर्षों से शासन कर रही है। लेकिन इस बार कांग्रेस को भाजपा पावर से बाहर फेंकने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है। राजनीतिक पर्यवेक्षकों ने उत्तर-पूर्व में भाजपा की तरफ से कांग्रेस के गढ़ को देख लिया है, जहां भगवा पार्टी परंपरागत रूप से एक मामूली खिलाड़ी रही है।

पहली बार 32 महिला उम्मीदवार चुनावी जंग में

मेघालय के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) ने कहा था कि पहली बार राज्य में 67 महिला मतदान केंद्र और 61 मॉडल मतदान केंद्र स्थापित किए गए। इसी के साथ पहली बार इस चुनावी जंग में 32 महिला उम्मीदवार मैदान में हैं। नगालैंड में कुल 11,91,513 मतदाता हैं, जिनमें 6,01,707 (50.50 प्रतिशत) पुरुष और 5,89,806 (49.50 प्रतिशत) महिलाएं हैं। 5,925 सेवा मतदाता भी हैं। वोटिंग का आयोजन 2,156 मतदान केंद्रों में किया जाएगा क्योंकि 40 मतदान केंद्र उत्तरी अंगामी-द्वितीय सीट के अंतर्गत आते हैं, जहां से रियो को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया है।

'चुनाव नहीं' का फरमान

नगालैंड में चुनाव से पहले नगा राजनीतिक मुद्दे के समाधान की मांग कर रही नगालैंड ट्राइबल होहोज एंड सिविल ऑर्गनाइजेशन्स (सीसीएनटीएचसीओ) की कोर समिति ने 'चुनाव नहीं' का फरमान जारी किया है जिसके चलते राजनीतिक दलों ने खुद को चुनाव प्रक्रिया से अलग कर रखा है।

Edited By: Arti Yadav