कोहिमा (प्रेट्र)। नागालैंड के 54 सालों के राजनीतिक इतिहास में पहली बार विस चुनाव में महिला उम्मीदवारों की सक्रिय उपस्थिति दिखाई दे रही है। राज्य में 27 फरवरी को चुनाव होने जा रहे हैं जिसके परिणाम 3 मार्च को आ जायेंगे। इस साल राज्य के 60 विधानसभा सीट वाले चुनाव में 195 उम्मीदवार खड़े हो रहे हैं जिनमें 5 महिला उम्मीदवार हैं।

हालांकि वीडि-यू-क्रोनू और मांग्यांगपूला नेशनल पीपुल्स पार्टी से दीमापुर और नोक्सेन निर्वाचन क्षेत्र से खड़ी हो रही हैं। उनके अलावा रखीला टुनसांग सदर सीट से भाजपा की उम्मीदवार हैं। नई बनी नेशनल डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी से अवान कोन्याक अबोई सीट से खड़ी हो रही हैं। रेखा रोज डुकोरु शिजामी निर्वाचन क्षेत्र से स्वतंत्र उम्मीदवार हैं। वर्तमान में सत्ता पर काबिज नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) पार्टी ने हालांकि इस बार किसी महिला उम्मीदवार को चुनावी मैदान में नहीं उतारा है। एनपीएफ प्रमुख ने कहा, चुनाव में हमारी पार्टी से किसी महिला उम्मीदवार ने रुचि नहीं दिखाई है।

बताया जा रहा है कि, रखीला के अलावा, अन्य चार महिलाएं पहली बार चुनाव मैदान में खड़ी हो रही हैं। भाजपा उम्मीदवार रखीला पूर्व मुख्यमंत्री की पत्नी हैं जो लकीउमुंग से चार बार प्रतिभागी रह चुकी हैं। रखीला पिछले चुनाव में इसी निर्वाचन क्षेत्र से 500 मतों से हार गई थीं। रखीला ने कहा, सत्ता में पुरुष अच्छा काम नहीं करते हैं मैं वो करुंगी जो पुरुषों ने काफी समय से नहीं किया है। एनडीपीपी उम्मीदवार अवान कोन्यक विधायक निवांग कोन्यक (पिछले महीने निधन) की बेटी हैं।

उन्होंने कहा कि- समाज में आए दिन महिलाओं झंडे गाड़ रही हैं। लेकिन उनकी समस्याओं को अनदेखा कर दिया जाता है। मैं लिंग समानता और महिला सशक्तीकरण पर जोर देना चाहती हूं। नोक्सन से खड़ी हो रहीं अन्य उम्मीदवार मांग्यानपूला ने कहा कि राज्य के अब तक के इतिहास में इस निर्वाचन क्षेत्र की स्थिति दयनीय हो चुकी है। 60 घरों वाले क्षेत्र में पुरुष और महिला मिलकर एक बड़ा बदलाव ला सकते हैं। अन्य वीडी-यू-क्रोनू जो एक समाज सेविका हैं ने कहा कि समाज में महिलाएं ही सकारात्मक बदलाव ला सकती हैं। समाज से भ्रष्टाचार को मिटाना मुश्किल है इसलिए मैं सिस्टम में बदलाव लाने के लिए राजनीति में आना चाहती हूं।

पिछले कुछ सप्ताह से ये पांचों महिलाएं चुनाव को लेकर सोशल मीडिया पर कैंपेन कर रही हैं। इन महिलाओं का स्वागत करते हुए नागालैंड के मुख्य चुनाव आयुक्त अभिजीत सिन्हा ने कहा, पिछली बार से महिलाओं की संख्या दो से बढ़कर अब पांच हो गई है। खुशी है कि महिलाएं बढ़-चढ़ कर राजनीति में हिस्सा ले रही हैं। महिलाओं की भागीदारी पुरुषों के बराबर होनी चाहिए। हमें फैसले लेने में महिलाओं के विचारों का भी सम्मान करना चाहिए।

Edited By: Srishti Verma