नई दिल्ली, जेएनएन। महाराष्ट्र समेत तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव की आहट के साथ ही विपक्षी दलों ने एक बार फिर ईवीएम को मुद्दा बना लिया है। कांग्रेस, एनसीपी और मनसे समेत सभी विपक्षी दल इस मुद्दे पर महाराष्ट्र में मार्च करेंगे। विपक्ष इस मु्द्दे पर एकजुटता दिखाने को तैयार है।

बताया जा रहा है कि महाराष्‍ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के बुलावे पर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी मार्च में शामिल होंगी। इस आंदोलन का आयोजन राज ठाकरे के आह्वान पर किया जा रहा है। वे ममता को बुलाने के लिए कोलकाता गए थे जहां उन्‍होंने ईवीएम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने की सहमति दी थी।

बैलट पेपर से चुनाव की मांग

विपक्षी पार्टियां तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों में बैलट पेपर से चुनाव कराए जाने की मांग कर रही हैं। विपक्ष लगातार ईवीएम पर सवाल उठा रहा है। विपक्ष के इस मार्च में तीन विपक्षी दलों कांग्रेस, एनसीपी और मनसे के अलावा स्वाभिमानी शेतकरी संगठन, आम आदमी पार्टी के कई नेता शामिल होंगे।

कोहिनूर स्क्वायर मामले में राज के समर्थन में आए उद्धव ठाकरे

कोहिनूर स्क्वायर अनियमितता मामले में मनसे प्रमुख राज ठाकरे 22 अगस्त को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के समक्ष पेश होंगे। वहीं राज ठाकरे के समर्थन में आए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच में कुछ सामने नहीं आएगा। उधर ईडी द्वारा भेजे गए समन के विरोध में मनसे द्वारा आहूत बंद भी वापस ले लिया गया है। पार्टी ने ठाणे बंद का आह्वान किया था। राज ठाकरे ने मनसे कार्यकर्ताओं को शांत रहने का निर्देश दिया है।  

Posted By: Vineet Sharan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप