भोपाल। मध्यप्रदेश में विधासभा चुनाव के नतीजों की तस्वीर अब लगभग साफ हो गई है। इस बार प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस के बीच कांटे का मुकाबला नजर आया। साल 2013 के विधानसभा चुनाव में 165 सीटें हासिल करने वाली भाजपा इस बार कमज़ोर पड़ती नज़र आई है। 230 विधानसभा सीटों में से अभी कई सीटों के नतीजे सामने नहीं आए हैं,लेकिन जितने भी नतीजे अब तक सामने आए हैं उसमें भाजपा के मुकाबले कांग्रेस मजबूत बनकर उभरी है। आखिर इस विधानसभा चुनाव में भाजपा के कमज़ोर होने और कांग्रेस की मजबूती की क्या वजह रही उसकी वजह भी दिलचस्प है।

मध्य प्रदेश में चुनाव नतीजों के पीछे यह रहे कारण

भाजपा

  • एंटी इनकमबेंसी : पिछले 15 साल से सरकार में रहने के कारण कुछ फैसलों से नाराजगी।
  • स्थानीय स्तर पर विधायकों का लोगों में विरोध: कई विधानसभाओं में विधायकों की निष्क्रियता को लेकर लोग नाराज थे।
  • टिकट वितरण में खामियां: पार्टी के टिकट वितरण को लेकर कई वरिष्ठ नेता बागी हो गए। ऐसे नेताओं ने पार्टी के खिलाफ बयानबाजी कर नुकसान पहुंचाया।
  • कर्मचारियों की नाराजगी, एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव और शिवराज सिंह चौहान का माई का लाल वाला कथन: एट्रोसिटी एक्ट में बदलाव को लेकर सामान्य वर्ग में नाराजगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का वह बयान, जिसमें उन्होंने कहा था कि कोई माई का लाल आरक्षण को खत्म नहीं कर सकता, सामान्य वर्ग की नाराजगी की वजह बना।
  • महंगाई: लगातार बढ़ रही महंगाई ने जनता का आक्रोश बढ़ाया।

कांग्रेस

  • किसानों की कर्ज माफी का वादा: सरकार बनने के दस दिन के भीतर किसानों का दो लाख स्र्पए तक का कर्ज माफ करने के वादे से किसानों के वोट मिले।
  • टिकट वितरण में सावधानी: इस बार पार्टी ने व्यापक स्तर पर सर्वे कर प्रत्याशियों की मैदानी हकीकत जानी और दमदार नेताओं को मैदान में उतारा।
  • नेताओं के बीच एकता: आम तौर पर परस्पर विरोधी माने जाने वाले नेताओं को पार्टी हाईकमान एक मंच पर लाने में सफल रहा। पूरे चुनाव के दौरान आपसी खींचतान के आसार भी बनने नहीं दिए।
  • भाजपा विरोधी मुद्दों को जनता के बीच ले जाने में सफल: मंदसौर गोलीकांड हो या भाजपा के खिलाफ अन्य मुद्दे, कांग्रेस उन्हें जनता के बीच ले जाने में सफल रही।
  • राहुल की प्रति सहानुभूति का भाव: राहुल की सक्रियता ने लोगों को प्रभावित किया। उनका बदला अंदाज और आक्रामक तेवर लोगों को प्रभावित करने में सफल रहे।  

Posted By: Ajay Barve