झाबुआ। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजे सामने आते जा रहे हैं। मध्यप्रदेश की चर्चित सीटों में झाबुआ विधानसभा सीट भी शामिल है। इस सीट पर इसलिए भी पूरे प्रदेश की निगाहें हैं क्योंकि यहां दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है।  

कांग्रेस ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया के बेटे डॉ. विक्रांत भूरिया यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। उनके सामने भाजपा की ओर से लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग में इंजीनियर इन चीफ रहे गुमानसिंह डामोर हैं। टिकट फाइनल होने के बाद से ही झाबुआ की ये सीट इसलिए चर्चाओं में आ गई क्योंकि यहां से पहली बार इतने शिक्षित उम्मीदवार मैदान में रहे। इस सीट पर भाजपा के गुमान सिंह डामोर 10 हजार वोट से आगे चल रहे हैं। उन्हें खबर लिखे जाने तक 63361 वोट मिले हैं।  डॉ. विक्रांत भूरिया को  53168 वोट मिले हैं। 

दोनों प्रत्याशियों ने ज्यादातर जनसंपर्क, सभाएं और रैलियां गांवों में ही की थी। इस दौरान प्रत्याशी गांव के किसी फलिये में गए और खटिया पर बैठकर अपनी बात गांव वालों के सामने रखी। दोनों के प्रचार की खास बात भी यही रही कि दोनों ही शहरी इलाकों में कम घूमे। डॉ. विक्रांत के लिए जहां उनके पिता ने पूरा जोर लगाया, वहीं गुमानसिंह डामोर के लिए उनका परिवार और पार्टी लगा रहा। डॉ. विक्रांत की ओर से सबसे विशेष ये रहा कि उनके समर्थकों ने सोशल मीडिया पर जबर्दस्त प्रचार किया। इस मामले में डामोर थोड़ा पीछे रहे। दोनों ही प्रत्याशियों का जनसंपर्क झाबुआ, पिटोल, कल्याणपुरा, बोरी, रानापुर और आसपास ज्यादा रहा।

कांतिलाल भूरिया की इस इलाके में जबर्दस्त पकड़ है और इसके चलते वे पूरे समय अपने बेटे के लिए लगे रहे। वहीं डामोर के लिए पार्टी के कार्यकर्ताओं ने जोर लगाया। हालांकि इस बार मतदाताओं ने दोनों को ही पूरा सम्मान दिया, जिससे स्थिति रोचक बन गई है। 

Posted By: Sonal Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप