भोपाल, नईदुनिया स्टेट ब्यूरो। प्रदेश में मतदान का रिकॉर्ड बनाने के लिए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने ऐड़ी-चोटी का जोर लगा दिया पर बड़े शहरों ने खेल बिगाड़ दिया। भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर से काफी उम्मीद थी, लेकिन किसी भी शहर में वृद्धि दो फीसदी तक भी नहीं पहुंची। इसकी वजह से 80 फीसदी मतदान का लक्ष्य दूर रह गया। जबकि, मतदाता जागरुकता अभियान के तहत बड़े शहरों में खूब गतिविधियां हुई थीं।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने भी गुरुवार को मीडिया से चर्चा में कहा कि शहरों में मतदान बढ़ाने के लिए और प्रयास किए जाएंगे।

कहां क्या रही स्थिति

जिला              मत प्रतिशत 2018          2013

भोपाल                      65.40                  63.89

इंदौर                         71.44                  70.61

जबलपुर                    70.38                  69.39

ग्वालियर                   62.64                  60.93

बालाघाट                   80.19                  79.98

सिवनी                      80.19                  79.33

नरसिंहपुर                  81.33                  79.52

शाजापुर                    82.22                  81.14

बुरहानपुर                  76.62                   75.65

मंडला                       78.20                   75.47

डिंडौरी                      79.04                   78.05

भिंड                         61.57                   60.12

19 सीटों पर पांच फीसदी तक घटा मतदान

विधानसभा चुनाव में लगभग 20 सीटें ऐसी भी रहीं, जहां 2013 की तुलना में मतदान प्रतिशत घटा है। सर्वाधिक पौने छह फीसदी की कमी ग्वालियर सीट पर हुई। यहां मतदान 60.77 प्रतिशत से घटकर 55.05 रह गया। इसी तरह लहार, बालाघाट, जबलपुर पूर्व, लखनादौन, ब्यौहारी, पुष्पराजगढ़, सीहोरा, सेवड़ा, नरसिंहगढ़, कुक्षी, मुंगावली, इंदौर-4, इंदौर-5, उज्जैन उत्तर, उज्जैन दक्षिण, भोपाल दक्षिण-पश्चिम, भोपाल मध्य और गोविंदपुरा सीट पर मत प्रतिशत कम हुआ है।

Posted By: Rahul.vavikar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप