सागर। खुरई विधानसभा क्षेत्र की रिजर्व ईवीएम मशीनों को 48 घंटे बाद जमा करने के मामले में प्रदेश के मुख्य सचिव ने खुरई के रिटर्निंग अधिकारी व एसडीएम विकास सिंह का स्थानांतरण कर दिया है।

इस विधानसभा क्षेत्र के प्रभारी आरओ वे ही थे। ईवीएम मशीनें जमा करने में हुए विलंब के कारण यह मामला गरमा गया था। विकास सिंह के स्थान पर एडीएम तन्वी हुड्डा को अपर कलेक्टर के साथ-साथ खुरई के एसडीएम का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

खुरई विधानसभा क्षेत्र की रिजर्व ईवीएम मशीनों को वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दिए बिना ही मतदान के बाद तक खुरई विधानसभा क्षेत्र में ही रखा गया। करीब 48 घंटे बाद जब इन मशीनों को इंजीनियरिंग कॉलेज में स्ट्रांग रूम में जमा कराने ले जाया गया तो कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा किया।

हालांकि कलेक्टर आलोक कुमार सिंह ने खुरई के कांग्रेस प्रत्याशी व वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं की मौजूदगी में रिजर्व मशीनों की सूची से इन मशीनों का मिलान करा दिया था और कुछ मशीनों की जांच करा दी गई थी, जिनमें वोट नहीं थे। इसके बाद कांग्रेसी पहले तो संतुष्ट होकर लौट गए, लेकिन अब इस मामले को लेकर सागर से लेकर भोपाल तक हंगामा मचा हुआ है और पूरे मामले में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू होने के बाद दो लोगों पर कार्रवाई हो चुकी है।

एसडीएम को मंत्रालय भेजा, एडीएम को अतिरिक्त प्रभार

मुख्य सचिव ने अपने आदेश में कहा है कि भारत निर्वाचन आयोग के पत्रानुसार विकास सिंह को तत्काल प्रभाव से आगामी आदेश तक सागर जिले से स्थानांतरित कर मंत्रालय में अवर सचिव के पद पर पदस्थ किया गया है। अपर कलेक्टर तन्वी हुड्डा को अपर कलेक्टर के साथ-साथ निर्वाचन प्रक्रिया की समाप्ति तक खुरई का अनुविभागीय अधिकारी भी नियुक्त किया गया है। उल्लेखनीय है कि इस मामले में लापरवाही बरतने पर नायब तहसीलदार राजेश मेहरा को संभागायुक्त मनोहर दुबे ने पहले ही निलंबित कर दिया था।

Posted By: Hemant Upadhyay