भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में मतदान को बढ़ावा देने के लिए चुनाव आयोग ने कई नए प्रयोग किए हैं। इसके साथ ही सामाजिक संस्थाओं ने भी इसमें बढ़चढ़कर हिस्सा लिया है। प्रदेशभर में बच्चों से अपने माता-पिता को मतदान करने के लिए चिट्ठी लिखवाई गई हैं। वहीं मतदान से पहले लगातार मोबाइल पर मैसेज भेजा जा रहा है कि आप वोट देने जरूरी जाएं।

बच्चों ने माता-पिता को लिखा लेटर

मप्र के स्कूलों में बच्चों ने अपने माता-पिता के नाम भावनात्मक चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने मतदान करने के लिए जाने को कहा है। बच्चों की चिट्ठी पर उनके अभिभावकों के साइन भी करवाए गए और इन्हें इक्टठा कर जिला निर्वाचन अधिकारी को सौपा गया है। इसी के साथ जैसे अभिभावक बच्चों को रोज स्कूल छोड़ने आते हैं, उसी तरह अब बच्चे अपने माता-पिता को वोट डलवाने ले जाएंगे।

10 लाख से ज्यादा लोगों ने किए वोटिंग के लिए सिग्नेचर

इंदौर में जिला प्रशासन और नगर निगम ने मतदान के लिए जागरूकता फैलाने के लिए हस्ताक्षर अभियान चलाया। इसमें शहर के 10 लाख 75 हजार लोगों ने सिग्नेचर किए। गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड ने 'लारजेस्ट सिग्नेचर कैंपेन ऑन कास्टिंग वोट' टाइटम में इंदौर का नाम दर्ज किया है।

मोबाइल एसएमएस

मतदान के प्रति जागरुकता के लिए चुनाव आयोग लगातार जनता के मोबाइल पर एसएमएस भेजा। जिसमें उनसे 28 नवंबर को वोट देने की अपील की गई। इसमें यह भी मैसेज भी दिया गया कि आप निर्भिक होकर मतदान करने जाइये, यह आपका अधिकार है। इसके साथ ही टीवी चैनल, अखबार और रेडिया पर भी मतदान करने की अपील की जा रही है।

क्यू लेस वोटिंग

मतदान को बढ़ावा देने के लिए चुनाव आयोग ने इस बार नई पहल की है। जिसमें मतदाता पहले से अपॉइंटमेंट लेकर बिना लाइन में लगे सीधे वोट दे सकेंगे। इसके लिए भारत निर्वाचन आयोग ने क्यू-लेस नाम का मोबाइल ऐप तैयार किया है। हालांकि यह सुविधा अभी केवल मध्य प्रदेश के चार प्रमुख शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर में ही होगी। जिसमें हर विधानसभा क्षेत्र के पांच मतदान केंद्रों पर मतदाता ऐप के जरिए अपॉइंटमेंट लेकर सीधे वोट दे सकेंगे।

मॉडल पोलिंग बूथ बनाए

चुनाव आयोग ने सभी जिलों में मॉडल पोलिंग बूथ बनाए हैं। इसमें मतदाताओं के लिए कई सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इसी के साथ प्रदेश के विभिन्न इलाकों में ऑल वूमन पोलिंग बूथ बनाए गए हैं जिसमें महिला कर्मचारी ही मतदान के कार्य का पूरा जिम्मा संभालेंगी। इस बार दिव्यांग भी कुछ बूथों पर पूरा काम संभालेंगे।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021