भोपाल। मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 28 नवंबर को मतदान होना है। यहां कई सीटों पर भाजपा और कांग्रेस के बागियों ने मुकाबला रोचक बना दिया है। दमोह सीट पर भाजपा से बागी हुए रामकृष्ण कुसमरिया ने मंत्री जयंत मलैया के खिलाफ चुनाव मैदान में ताल ठोक दी है। झाबुआ सीट पर बागी जेवियर मेड़ा ने मुकाबला कड़ा कर दिया है। बागियों के अलावा कुछ सीटों पर सपा और बसपा के उम्मीदवारों ने चुनावी जंग को त्रिकोणीय बना दिया है।

उज्जैन उत्तर विधानसभा : कांग्रेस की बागी माया ने मुकाबला बनाया रोचक

उज्जैन उत्तर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस से बगावत कर निर्दलीय चुनाव मैदान में उतरीं माया राजेश त्रिवेदी ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है। यह सीट इसलिए चर्चा में है क्योंकि भाजपा के टिकट पर यहां से मालवा के कद्दावर मंत्रियों में गिने जाने वाले पारस जैन (पहलवान) लगातार सातवीं बार चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस ने सिंधिया समर्थक राजेंद्र भारती (बाबा) को मौका दिया है। कांग्रेस मुस्लिम वोटों के सहारे है तो माया ब्राह्मण वोटों पर असर डाल रही हैं। ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर इसी विधानसभा क्षेत्र में स्थित है।

बुरहानपुर विधानसभा : सुरेंद्र सिंह ठाकुर ने मुकाबला किया त्रिकोणीय

निमाड़ क्षेत्र की चर्चित सीट बुरहानपुर विधानसभा सीट का चुनाव त्रिकोणीय होने से रोचक हो गया है। जीत-हार के अंतर को लेकर कयास इस सीट से मैदान में उतरे प्रत्याशियों में भाजपा से अर्चना चिटनीस, कांग्रेस से रवींद्र महाजन एवं निर्दलीय चुनाव लड़ रहे सुरेंद्रसिंह ठाकुर के बीच रोचक त्रिकोणीय मुकाबला है। यह सीट मंत्री अर्चना चिटनीस के लिए प्रतिष्ठा की सीट है। इसलिए चिटनीस और उनके समर्थक एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। वहीं पूरे दमखम से मैदान में उतरे निर्दलीय प्रत्याशी सुरेंद्रसिंह ठाकुर ने भाजपा-कांग्रेस के प्रत्याशियों की नींद उड़ा रखी है। कांग्रेस के रवींद्र महाजन भी खासा जोर लगा रहे हैं।

झाबुआ सीट पर कांग्रेस के बागी जेवियर मेड़ा मैदान में

मप्र की झाबुआ सीट पर मुकाबला रोचक हो गया है। कारण यह है कि यहां कांग्रेस के बड़े आदिवासी नेता कांतिलाल भूरिया के बेटे डॉ. विक्रांत पार्टी के उम्मीदवार हैं। भाजपा ने संघ के भरोसे पर गुमानसिंह डामोर को टिकट दिया, जो पहले पेटलावद से दावेदारी कर रहे थे। कांग्रेस से बगावत कर बागी उम्मीदवार के रूप में पार्टी के ही पूर्व विधायक जेवियर मेड़ा ताकत दिखाने की कोशिश कर रहे हैं।

पनागर सीट : भाजपा के बागी भाजपा के बागी भरत यादव चुनाव मैदान में हैं। यहां भाजपा की ओर से सुशील तिवारी और कांग्रेस की ओर से सम्मति सैनी चुनाव मैदान में हैं।

निवास सीट : भाजपा के बागी चैन सिंह निर्दलीय के रूप में मैदान में है। यहां भाजपा ने रामप्यारे कुलस्ते और कांग्रेस की ओर से डॉ अशोक मर्सकोले उम्मीदवार हैं।

लांजी सीट : बसपा की मीरा समरीते यहां चुनाव में खड़ी हुई हैं। भाजपा के रमेश भटेरे और कांग्रेस की हिना कांवरे को प्रत्याशी बनाया गया है।

सुमावली सीट : बसपा के मानवेंद्र सिंह ने मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है। यहां भाजपा से अजब सिंह और कांग्रेस से एदल सिंह चुनाव मैदान में है।

ग्वालियर ग्रामीण सीट : कांग्रेस के बागी साहबसिंह को बसपा ने उम्मीदवार बनाया है। भाजपा ने भरतसिंह कुशवाहा को प्रत्याशी बनाया है, तो कांग्रेस की ओर से मदन कुशवाह खड़े हुए हैं।

बमोरी सीट : भाजपा के पूर्व बागी केएल अग्रवाल भी यहां मैदान में डटे हैं। भाजपा की ओर से बृजमोहन और कांग्रेन की ओर से यहां महेंद्र सिंह प्रत्याशी हैं।

राजनगर सीट : सप्रा प्रत्याशी नितिन चतुर्वेदी भी चुनाव मैदान में हैं। यहां से भाजपा के अरविंद पटेरिया और कांग्रेस ने विक्रमसिंह नातीराजा को उम्मीदवार बनाया है।

दमोह और पथरिया सीट : भाजपा के बागी रामकृष्ण कुसमरिया दो सीटों से चुनाव मैदान में हैं। दमोह में भाजपा ने जयंत मलैया और कांग्रेस ने राहुल सिंह को टिकट दिया है। पथरिया में भाजपा की ओर से लखन पटेल और कांग्रेस ने गौरव पटेल को उम्मीदवार बनाया है।

मनगवां सीट : यहां से बसपा की शीला त्यागी विधायक रही हैं। उधर इस बार भाजपा ने यहां पंचूलाल प्रजापति और कांग्रेस ने बबीता साकेत को चुनाव में उतारा है।

बालाघाट सीट : समाजवादी पार्टी ने अनुभा मुंजारे को मैदान में उतारा है। वहीं भाजपा के कद्दावर नेता गौरीशंकर बिसेन और कांग्रेस के विश्वेश्वर भगत चुनावी मैदान में हैं।

भिंड सीट : यहां सपा के नरेंद्र सिंह और बसपा के संजू सिंह भी चुनाव मैदान में हैं। भाजपा ने राकेश चौधरी और कांग्रेस ने रमेश दुबे को यहां प्रत्याशी बनाया है।

पोहरी सीट : भाजपा छोड़कर बसपा में शामिल हुए कैलाश कुशवाह यहां चुनाव लड़ रहे हैं। वहीं भाजपा ने यहां प्रहलाद भारती तो कांग्रेस ने सुरेश राठखेड़ा को चुनावी मैदान में उतारा है।

बरघाट सीट : यहां भाजपा और कांग्रेस के बागी चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा की ओर से कमल मसकोले और कांग्रेस की ओर से अर्जुन सिंह काकोडिया को प्रत्याशी बनाया गया है।

पंधाना सीट : यहां कांग्रेस से बागी रूपाली बारे चुनाव लड़ रही हैं। भाजपा की ओर से राम प्रताप दांगोरे और कांग्रेस की ओर से छाया मोरे मैदान में हैं।

महेश्वर सीट : भाजपा विधायक राजकुमार मेव बागी बन चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा ने यहां भूपेंद्र आर्य और कांग्रेस ने डॉ. विजय लक्ष्मी साधौ को प्रत्याशी बनाया है।

बड़वानी सीट : कांग्रेस से बागी हुए राजेंद्र मंडलोई भी यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा ने प्रेमसिंह पटेल और कांग्रेस ने रमेश पटेल को उम्मीदवार बनाया है।

आलीराजपुर सीट : कांग्रेस के बागी शमशेरसिंह यहां मुश्किल खड़ी कर सकते हैं। भाजपा ने नागरसिंह चौहान को तो कांग्रेस ने मुकेश पटेल को प्रत्याशी बनाया है।

जोबट सीट : कांग्रेस से बागी विशाल रावत मैदान में। भाजपा प्रत्याशी माधो सिंह डावर और कांग्रेस प्रत्याशी कलावती भूरिया।

थांदला सीट : भाजपा से बागी दिलीप कटारा मैदान में हैं। भाजपा की ओर से कलसिंह भाबर और कांग्रेस की ओर से वीरसिंह भूरिया प्रत्याशी हैं।

मनावर सीट : भाजपा से बागी जगदीश मुवेल लड़ रहे चुनाव। भाजपा ने रंजना बघेल तो कांग्रेस ने डॉ हीरालाल अलावा को दिया टिकट।

बदनावर सीट : भाजपा से बागी राजेश अग्रवाल मैदान में हैं। भाजपा ने भंवरसिंह शेखावत और कांग्रेस ने राजवर्धन दत्तीगांव को बनाया है प्रत्याशी।

उज्जैन दक्षिण सीट : कांग्रेस के बागी जयसिंह दरबार लड़ रहे चुनाव। भाजपा ने मोहन यादव तो कांग्रेस ने राजेंद्र वशिष्ठ को दिया है टिकट।  

Posted By: Prashant Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस