भोपाल। प्रदेश से बाहर फौज, सीमा सुरक्षा बल या विदेशों में स्थित दूतावासों में पदस्थ 62 हजार 172 मतदाताओं को बारकोड वाले डाक मतपत्र दिए गए हैं। मतगणना के लिए इन्हें दो बार स्कैन किया जाएगा। इसके लिए हर जिले में बारकोड रीडर दिया गया है।

भिंड, मुरैना, ग्वालियर, रीवा और सागर को छोड़कर बाकी जिलों में सर्विस वोटर की संख्या कम है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय का दावा है कि बारकोड रीड करने की वजह से नतीजे आने के समय में खास फर्क नहीं पड़ेगा, क्योंकि इसमें ज्यादा वक्त नहीं लगता है।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि सर्विस वोटरों को ऑनलाइन डाक मतपत्र भेजे गए हैं। इसके साथ ही उन्हें पिन नंबर भी दिया गया है। इस नंबर को डालने पर ही डाक मतपत्र डाउनलोड होगा। यह व्यवस्था इसलिए अपनाई गई है, जिससे वास्तविक व्यक्ति को ही मतपत्र मिले। इन्हें 10 दिसंबर तक रिटर्निंग ऑफिसर को मिल जाना चाहिए।

मतगणना के समय लिफाफे पर दर्ज बारकोड नंबर को बारकोड रीडर से स्कैन किया जाएगा। सही निकलने पर इन्हें अलग रखा जाएगा। घोषणा पत्र देखकर मतपत्र वाला लिफाफा बारकोड स्कैन कर खोला जाएगा। इस प्रक्रिया में कुछ समय लगेगा पर इसका असर परिणाम आने के समय पर नहीं पड़ेगा, क्योंकि किसी भी जिले में सर्विस वोटर की बहुत ज्यादा संख्या नहीं है। अभी तक ढाई-तीन हजार सेवा मतदाताओं के मतपत्र रिटर्निंग ऑफिसरों को प्राप्त हुए हैं।

Posted By: Hemant Upadhyay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस