जबलपुर। मध्य प्रदेश विधानसभा के 230 सीटों के लिए मतदान हुआ। अलग-अलग जिलों के कई मतदान केंद्रों पर सुबह से ही ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत मिल रही थी। कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और प्रचार अभियान के प्रमुख ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी इसे लेकर चुनाव आयोग को शिकायत की थी और मतदान का वक्त बढ़ाने की मांग की।

इस मुद्दे पर मध्य प्रदेश विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भी प्रदेश सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार लोकतंत्र के चीरहरण की साजिश कर रही है। इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि सरकार के इशारे पर मतदान को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है।  

अजय सिंह ने चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर सवाल उठाते हुए कहा कि आयोग सरकार की कठपुतली के रूप में काम कर रहा है। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने जारी बयान में कई विधानसभा क्षेत्रों में ईवीएम मशीनों की गड़बड़ी का हवाला देते हुए कहा है कि इससे चुनाव आयोग की तैयारियों के दावे की पोल खुल गई है।

अजय सिंह ने विंध्य की कई सीटों के मतदान केंद्रों में ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए कहा है लोगों को बिना मतदान किए ही लौटने पर मजबूर किया जा रहा है। कई मतदान केंद्रों में 2 बजे तक भी मतदान शुरू नहीं हो सका। इससे साफ जाहिर है कि चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है।

अजय सिंह ने दावा करते हुए कहा कि उन्हीं मतदान केंद्रों की मशीनों में खराबी पाई गई है। जहां कांग्रेस की स्थिति मजबूत है। उन्होंने हैरानी जताते हुए कहा कि दोपहर दो बजे तक कई मतदान केंद्रों पर तीस फीसद मतदान नहीं हो सका था। जबकि मतदाता सुबह से ही बड़ी संख्या में अपने मतदान केंद्रों में पहुंच चुके थे। 

अजय सिंह ने चुनाव आयोग से उन मतदान केंद्रों में पुनर्मतदान की मांग की है, जहां-जहां ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी के कारण मतदान में या तो देरी हुई है या मतदान नहीं हो पाया है। 

Posted By: Saurabh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस