मल्टीमीडिया डेस्क। मध्यप्रदेश के विंध्य क्षेत्र में 30 विधानसभा सीटे हैं। 2013 के चुनाव में भाजपा ने 17 सीट जीती थी, वहीं कांग्रेस के झोली में 11 सीट गई थी। बसपा को भी दो सीट मिली थीं। इस सीटों पर भाजपा और कांग्रेस का अलावा बसपा का भी असर है। पिछले 6 विधानसभा चुनावों में जिन 24 सीटों पर बसपा जीती है, उसमें से 10 विंध्य क्षेत्र की हैं। इस बार लगभग 12 सीटों पर समाजवादी पार्टी, सपाक्स और निर्दलियों के साथ ही दलबदलू नेता भी परिणाम पर असर डाल सकते हैं। 

विंध्य: 7 जिले, 30 विधानसभा, 2 संभाग

1. रीवा (8 सीट): रीवा, सिरमौर, सेमरिया, त्योंथर, मऊगंज, देवतालाब, मनगवां, गुढ़

2. सतना (7 सीट): सतना, चित्रकुट, रैगांव, नागौद, मैहर, अमरपाटन, रामपुर-बघेलान

3. सीधी (4 सीट): सीधी, चुरहट, सिंहावल, धौहनी

4. सिंगरौली (3 सीट): सिंगरौली, चितरंगी, देवसर

5. शहडोल (3 सीट): ब्योहरी, जयसिंहनगर, जैतपुर

6. अनुपपुर (3 सीट): अनूपपुर, कोतमा, पुष्पराजगढ़

7. उमरिया (2 सीट): बांधवगढ़, मानपुर

दो दिलचस्प मुकाबले

1. नागौद: भाजपा ने नागेंद्र सिंह को टिकट दिया है जो पिछली शिवराज सरकार में मंत्री थे। वहीं कांग्रेस ने मौजूदा विधायक यादवेंद्र सिंह को मैदान में उतारा है। यहां मुकाबला दिलचस्प है क्योंकि दोनों उम्मीदवार राजपूत हैं। मुकाबला त्रिकोणीय भी है, क्योंकि पिछले पांच साल से जमावट कर रहीं भाजपा नेता रश्मि पटेल बगावत कर निर्दलीय चुनाव लड़ रही हैं।  

2. रामपुर-बघेलान: सतना जिले की इस सीट पर भाजपा ने विक्रम सिंह को टिकट दिया है। विक्रम इस परिवार की चौथी पीढ़ी है जो चुनाव लड़ रही है। उनके पिता हर्ष सिंह मौजूदा सरकार में मंत्री हैं, लेकिन बीमारी के कारण उन्होंने खुद के बजाए बेटे को मैदान में उतारा है। विक्रम सिंह का  मुकाबला बसपा के रामशंकर पयासी से है, जो पिछली बार 25 हजार वोटों से हार गए थे। 

...इन सीटों पर भी रहेगी नजर

चुरहट से नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह मैदान में हैं। उनका मुकाबला शारदेन्दु तिवारी से है। अमरपाटन से कांग्रेस के विधानसभा उपाध्यक्ष राजेंद्र कुमार सिंह चुनाव लड़ रहे हैं और उनका मुकाबला भाजपा के रामखिलवान पटेल से है। रीवा से मंत्री राजेंद्र शुक्ला मैदान में हैं। उनका मुकाबला कांग्रेस के अभय मिश्रा से है। मानपुर सीट से तीन बार के विधायक मंत्री मीना सिंह को भी ज्ञानवती सिंह तगड़ी टक्कर दे रही हैं।

मुद्दों में जातिवाद रहा हावी

सड़कों की बदहाली, गरीबी, पलायन, बेरोजगारी के आम मुद्दों के बीच जातिवाद इस बार हावी रहा। 

जानिए विंध्य की सभी 30 विधानसभा सीटों के प्रमुख प्रत्याशियों के बारे में

 

 

Posted By: Arvind Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस