जयपुर, जेएनएन। राजस्थान में लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे और आखिरी चरण की 12 सीटों के लिए सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ। राजस्थान में चार बजे तक 50.44 फीसद मतदान हुआ। तीन बजे तक 49.75 फीसद मतदान हुआ। एक बजे तक 41.96  फीसद मतदान हुआ है। 11 बजे तक 29.37 फीसद मतदान हुआ। सुबह नौ बजे तक 13.34 फीसद मतदान हुआ है। केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और उनकी पत्नी गायत्री ने जयपुर के वैशाली नगर स्थित टीपीएस स्कूल में मतदान किया। एनडीए प्रत्याशी हनुमान बेनीवाल ने पैतृक गांव बरणगांव में वोट डाला। कांग्रेस प्रत्याशी श्रवण कुमार अपने घर घरडू की ढाणी में पूजन कर बालाजी मंदिर में हवन में आहुति देकर वोट डालने बूथ पर पहुंचे।

अनूपगढ़ में दूल्हे भूपेंद्र सिंह ने विवाह से पहले मतदान किया। मतदान के बाद बारात को रवाना किया गया।

दो घंटे में करीब 14 फीसद मतदान
लोकसभा चुनाव में राजस्थान के दूसरे और अंतिम चरण के लिए मतदाता उत्साह से दिखे। गर्मी तेज होने के कारण सुबह सात बजे से ही मतदान केंद्रों  पर मतदाताओं की लंबी कतारें लग गईं। पहले दो घंटे में प्रदेश में 13.34 फीसद मतदान हुआ।

राजस्थान में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत सोमवार को 12 सीटों पर मतदान हुआ। सभी 12 सीटों पर कुल 134 उम्मीदवार मैदान में थे। इनमें  68 निर्दलीय प्रत्याशी शामिल थे।

ज्यादातार सीटों पर सुबह से ही पोलिंग बूथों पर वोटर्स की भीड़ दिखी। मतदान केंद्र पर लोगों की खासी भीड़ रही। जिन 12 लोकसभा सीटों पर मतदान हुआ, उनमें पहले दो घंटे में दौसा में 14.40, नागौर में 13.92, गंगानगर में 15.18, बीकानेर मे 12.94, चुरू में 13.45, झुंझुनू में 11.97ं, सीकर में 13.52, जयपुर ग्रामीण में 14.16, जयपुर शहर में 13.71, अलवर में 13.09, भरतपुर में 13.75 और करौली धौलपुर में 13.76 फीसद मतदान हुआ। इन 12 सीटों पर करीब दो करोड़ 30 लाख 68 हजार से ज्यादा मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

दिग्गजों ने किया मतदान 
पांचवें चरण के चुनाव में प्रदेश के ज्याादातर दिग्गजों ने सुबह ही मतदान किया। बीकानेर से प्रत्याशी अर्जुनराम मेघवाल, नागौश्र से प्रत्याशी हनुमान बेनीवाल, जयपुर से प्रत्याशी रामचरण बोहरा, और ज्योति खण्डेलवाल, जयपुर ग्रामीण से प्रत्याशी राज्यवर्धन सिंह राठौड, झुंझुनूं से प्रत्याशी श्रवण कुमार, अलवर से प्रत्याशी जितेन्द्र सिंह आदि ने अपना वोट डाला। मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार, मुख्य सचिव डीबी, गुप्ता, पुलिस महानिदेशक कपिल गर्ग ने भी अपना वोट डाला।

ईवीएम खराब होने की शिकायतें
लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में प्रदेश में चल रहे मतदान के दौरान कई केंद्रों पर ईवीएम खराब रही। ईवीएम में आई इन तकनीकी खामियों के चलते कई पोलिंग बूथों पर निर्धारित समय पर मतदान शुरू नहीं हुआ। अलवर के बहरोड़ में बूथ नंबर 29, 68, 71, 84,102 और 130 की वीवीपेट मशीन खराब हो गई। इस पर वहां दूसरी वीवीपेट मशीन भेजी गई। जिसके चलते कुछ देर लिए वहां मतदान रुका रहा। करौली में मतदान केंद्र संख्या 140 पर ईवीएम खराब होने से मतदाताओं का इंतजार करना पड़ा। वहां मतदाताओं ने पीठासीन अधिकारी पर देरी मतदान शुरू करवाने का आरोप लगाया। भरतपुर के डीग कुम्हेर विधानसभा क्षेत्र में डहवा बूथ पर ईवीएम खराब होने के कारण वहां एक घंटे तक मतदान शुरू नहीं हो पाया।

अलवर में काली मोरी स्थित पोलिंग बूथ नंबर 177 पर ईवीएम खराब होने के कारण वहां उसे बदला गया। झुंझुनूं में उदयपुरवाटी विधानसभा क्षेत्र में बूथ संख्या 179 पर भी ईवीएम खराब होने के कारण वोटिंग आधा घंटे देरी से शुरू हो पाई। राजधानी जयपुर में बीजेपी मुख्यालय पर बनाए गए वॉर रूम के मुताबिक, लगभग 40 स्थानों से ईवीएम खराब होने की है सूचना मिली। जयपुर ग्रामीण लोकसभा क्षेत्र में भी एक केंद्र पर वीवीपेट मशीन खराब होने के कारण यहां बीजेपी प्रत्याशी राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को भी इंतजार करना पड़ा। वहीं, सीकर में भी एक केंद्र पर वीवीपेट मशीन खराब होने के कारण माकपा उम्मीदवार अमराराम के मतदान करने के बाद उसमें से पर्ची नहीं निकली। इस मामले को लेकर अमराराम ने अपनी शिकायत भी दर्ज कराई है। करौली के सायपुर बूथ नंबर 101 पर मतदाताओं ने बीएलओ पर वोटर पर्ची नहीं बांटने का आरोप लगाते हुए वहां हंगामा कर दिया।मतदाताओं ने व्यवस्थाओं पर नाराजगी जताई।

इन सीटों पर भाजपा के लिए चुनौती पहले चरण के मुकाबले ज्यादा कड़ी दिखी। चार माह पहले हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा इन सीटों के तहत आने वाली विधानसभा सीटों पर बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाई थी। कांग्रेस और भाजपा की सीटों के बीच दोगुने से ज्यादा का अंतर था। हालांकि कांग्रेस बेहतर स्थिति में दिख रही है लेकिन इन सीटों पर बसपा, माकपा जैसे दल भी अच्छी पकड़ रखते हैं और इन दलों से कांग्रेस को नुकसान होने की संभावना बताई।

दिव्यांग मतदाताओं ने हनुमानगढ़ में मतदान किया। मतदानकर्मियों ने माला पहनाकर मतदाताओं का स्वागत किया ।

मधुमक्खियों ने मतदान केंद्र पर किया हमला, चार घायल
राजस्थान में झुंझुनूं जिले के एक मतदान केंद्र पर मतदान शुरू होने के करीब आघा घंटे बाद अचानक अफरा-तफरी मच गई। मतदान केंद्र पर मतदाता लाइन में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे, तभी मधुमक्खियों के झुंड ने लोगों पर हमला कर दिया, जिसकी वजह से केंद्र पर मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई । लोग जान बचाकर इधर-उधर भागने लगे। अचानक हुई घटना के बाद मतदान केंद्र पर अव्यवस्था का माहौल हो गया, जिसके कारण मतदान कुछ देर के लिए रोक दिया गया। मधुमक्खियों के इस हमले में चार लोगों के घायल होने की सूचना है।

जानकारी के मुताबिक, घटना झुंझुनूं जिले में बुहाना के सरकारी स्कूल में बने मतदान केंद्र की है। घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हे घर भेज दिया गया।

चार पीढ़ियां एक साथ मतदान करने पहुंची, सांसद ने किया स्वागत
दौसा जिले के हाज्याबास गांव में बने मतदान केंद्र पर 107 वर्षीय जगन्नाथ मीणा की चार पीढ़ियां एक साथ वोट ड़ालने पहुंची। यहां पहले से मौजूद भाजपा नेता और राज्यसभा सांसद डॉ.किरोड़ी लाल मीणा ने जगन्नाथ मीणा का अगुवाई की। मतदान के बाद बैंडबाजे के साथ के साथ पूरे गांव में घूमते हुए जगन्नाथ मीणा अपने घर पहुंचे।

दृष्टिहीन मतदाता पत्नी की अंगुली पकड़कर पहुंचे मतदान केंद्र
जयपुर के वैशाली नगर निवासी दृष्टिहीन मतदाता चेतन शर्मा अपनी पत्नी रामा की उंगली पकड़कर वोट ड़ालने पहुंचे । यहां मतदानकर्मियों ने उनकी मदद की । ओरिएंटल बैंक में मैनेजर शर्मा के बचपन में आंखों में कैंसर के कारण रोशनी हमेशा के लिए चली गई थी । लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और पहले तो दसवीं कक्षा टॉप की और फिर पोस्ट ग्रेजुएशन की शिक्षा प्राप्त कर बैंक में स्टेनोग्राफर की जॉब हासिल की । उसके बाद प्रमोशन पाते-पाते वे मैनेजर पद तक पहुंच गए । प्रदेश के कई मतदान केंद्रो पर दृष्टिहीन मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करने पहुंचे जहां मतदानकर्मियों ने उनकी मदद की ।

वोट देने के लिए करोबारियों ने रखा अवकाश
मतदान बढ़ाने के लिए चुनाव आयोग और राजनीतिक पार्टियों के साथ-साथ विभिन्न व्यापारिक एवं सामाजिक संगठनों ने भी प्रयास किए। इसके तहत सोमवार को राजस्थान में विभिन्न व्यापार मंडल, फल सब्जी मंडियां, खाद्य व्यापारिक मंडियां और औद्योगिक इकाइयों ने अवकाश रखा। आधे दिन का अवकाश रखकर कारोबारियों ने खुद भी मतदान किया और अपने कार्मिकों को भी मतदान करने का अवसर दिया। फोर्टी अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया 176 व्यापारिक संस्थाएं फोर्टी से जुड़ी हुई हैं, जिन्होंने पूरे दिन का अवकाश रखने के लिए समर्थन दिया है। फोर्टी से जुड़ी औद्योगिक इकाइयों में 15 लाख कर्मचारी काम करते हैं, उन सब को मतदान के लिए छुट्टी दी गई।

जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल ने बताया कि 23 बाजारों में प्रत्येक व्यापारिक प्रतिष्ठान तक यह मैसेज करवाया गया है कि पहले मतदान करें और इसका असर भी देखने का मिला। ट्रांसपोर्टर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने सोमवार को अवकाश घाेषित किया। इस दिन ट्रांसपोर्टर अपने प्रतिष्ठान बंद रहे। ट्रांसपोटर्स और उनके कर्मचारियों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। जयपुर होलसेल टेक्सटाइल्स डीलर एसोसिएशन के अध्यक्ष सीताराम बंब ने बताया कि सोमवार को पूरे दिन की छुट्‌टी रही। व्यापरिक संगठनों के पदाधिकारी दिनभर लोगों से अपील करते रहे कि अपनी सरकार चुनने के लिए वोट अवश्य करें।

पिछले चरण में भाजपा थी बेहतर स्थिति में

राजस्थान में लोकसभा की 13 सीटों के लिए पिछले सोमवार (29 अप्रैल) को हुए पहले चरण के मतदान में भाजपा बेहतर स्थिति में थी। उस चरण की 13 लोकसभा सीटों में आने वाली 104 विधानसभा सीटों में भाजपा के पास 50 और कांग्रेस के पास 43 सीटें थीं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप