नई दिल्ली, आइएएनएस। सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर अब राजनीतिक विज्ञापनों का ब्योरा दिखेगा। ट्विटर ने सोमवार को भारत में अपने विज्ञापन पारदर्शिता केंद्र की स्थापना की। इसके जरिये लोगों को राजनीतिक विज्ञापनों का ब्योरा उपलब्ध कराया जाएगा। फेसबुक पिछले महीने ही ऐसा ही कदम उठा चुका है।

राजनीतिक विज्ञापनों को केवल प्रोमोटेड ट्वीट और इन-स्ट्रीम वीडियो विज्ञापनों के जरिये प्रचारित किया जा सकेगा। इस समय ट्विटर के किसी दूसरे विज्ञापन उत्पादों का इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा।

ट्विटर के अनुसार, 'विज्ञापन खातों से जुड़े बिलिंग सूचना टैब विज्ञापनदाताओं का पता आदि के बारे में सूचनाएं दिखाएगा।' ट्विटर पर उन्हीं राजनीतिक विज्ञापनों का प्रसारण हो सकेगा जिनके लिए चुनाव आयोग द्वारा मान्यता प्राप्त किसी राजनीतिक दल, प्रत्याशी या चिह्नित समर्थक द्वारा भुगतान किया जाएगा। राजनीतिक विज्ञापनदाताओं को ट्विटर की प्रमाणन प्रक्रिया से गुजरना होगा। उन्हें प्रोफाइल व हेडर फोटो देना होगा। विज्ञापनदाताओं की जीवनी में एक ऐसी वेबसाइट भी शामिल होनी चाहिए जो वैध संपर्क की जानकारी देती है।

फेसबुक एड आर्काइव रिपोर्ट के अनुसार, भारत में पिछले महीने राजनीतिक विज्ञापन पर चार करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च किए गए। इसकी आधी रकम भाजपा और इसके समर्थकों की तरफ से दी गई।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस