वाराणसी, जेएनएन। देश की सबसे चर्चित लोकसभा सीट वाराणसी एक बार फ‍िर से चर्चा में आ गई है। यहां से समाजवादी पार्टी की ओर से बीएसएफ के बर्खास्‍त जवान तेजबहादुर का नामांकन खारिज होने के बाद वह सुप्रीम कोर्ट में अपनी अर्जी लेकर पहुंचे हैं। तेज बहादुर यादव ने सुप्रीम कोर्ट में अपना नामांकन खारिज करने को लेकर चुनौती दी है। इस मामले में वरिष्‍ठ अधिवक्‍ता प्रशांत भूषण उनकी तरफ से इस केस की पैरवी करेंगे।

इससे पूर्व वाराणसी में समाजवादी पार्टी की ओर से अप्रत्‍याशित तौर पर नामांकन के अाखिरी दिन शालिनी यादव के अलावा निर्दल चुनाव लडने जा रहे तेज बहादुर यादव को अपनी पार्टी की ओर से चुनावी मैदान में उतार दिया था। हालांकि उनकी बर्खास्‍तगी की वजहों को लेकर समय से अपना जवाब दाखिल न करने को लेकर जिला निर्वाचन अधिकारी ने उनका नामांकन खारिज कर दिया था। अब इस मामले में तेज बहादुर के सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने से वाराणसी में एक बार फ‍िर से सियासी हलचल बढ गई है।

वाराणसी में पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ सपा से शलिनी या‍दव, कांग्रेस से अजय राय चुनावी मैदान में हैं। अब तेज बहादुर यादव के कोर्ट जाने के बाद की स्थितियों को लेकर वाराणसी में सियासी चर्चा शुरु हो गई है। हालांकि पखवारे भर पूर्व ही कांग्रेस से सपा में शामिल हुईं शालिनी यादव को लेकर पार्टी के भीतर ही असंतोष की स्थिति सामने आने से पार्टी के भीतर काफी सरगर्मी बनी हुई है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस