दुमका, जागरण संवाददाता। झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने सोमवार को दुमका में महागठबंधन पर कहा कि मोदी और भाजपा को रोकना है तो कांग्रेस बड़ा दिल दिखाए। परिसदन में बातचीत करते हुए बाबूलाल ने कहा कि गोड्डा पर झाविमो का सबसे मजबूत व स्वभाविक दावा है। कहा कि उनकी पार्टी राज्य में धनबाद, दुमका, गिरीडीह समेत राज्य दूसरे सीटों पर तो दावा नहीं कर रही है लेकिन गोड्डा सीट झाविमो को चाहिए। एक सवाल पर कहा कि कांग्रेस को अगर यह सीट मिल भी जाए तो वह चुनाव नहीं जीत सकेगी।

बाबूलाल मरांडी ने दलील यह कि पिछले चुनाव में भी कांग्रेस यहां दंगल में थी और झामुमो, राजद और जदयू के संग गठबंधन करने के बाद चुनाव हार गई। झाविमो ने अपने दम पर मजबूत प्रदर्शन किया था। वर्तमान परिस्थितियां झाविमो के पक्ष में हैं, क्योंकि झाविमो ने यहां किसानों के साथ मिलकर जल, जंगल और जमीन की लड़ाई न सिर्फ खड़ा किया है बल्कि झाविमो नेता प्रदीप यादव इस आंदोलन में पांच माह के लिए जेल में भी रहे हैं। महागठबंधन के दूसरे दल तो किसानों के हक की लड़ाई पर बयानबाजी तक ही कायम रहे।

कहा कि कांग्रेस को जिद छोड़कर दिल्ली की राजनीति करनी चाहिए। झाविमो के किसी नेता या उन्हें प्रधानमंत्री नहीं बनना है। अगर यहां से जीतेंगे तो भी कांग्रेस को ही समर्थन करेंगे। कांग्रेस के नेता फुरकान अंसारी को राज्यसभा भेजा जा सकता है। महागठबंधन में सबसे बड़ा दल कांग्रेस है, इसलिए इस पर कांग्रेस को जिद छोड़कर जमीनी हकीकत के आधार पर निर्णय लेना चाहिए। इस सवाल पर कि अगर कांग्रेस नहीं मानती है तो झाविमो का स्टैंड क्या होगा के जवाब में बाबूलाल ने कहा कि अंतिम समय तक झाविमो महागठबंधन का पक्षधर है, लेकिन निर्णय तो कांग्रेस को ही लेना है।

इधर, सरयू राय प्रकरण पर बाबूलाल ने कहा कि उनके जैसे अनुभवी नेता जब इस्तीफा देने की पेशकश कर रहे हैं तो यह गंभीर मामला है। अगर मुख्यमंत्री रघुवर दास में नैतिकता है तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। कहा कि सरयू राय सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाकर साहस दिखाया है, जिससे सरकार के अंदर की कार्यशैली उजागर हुई है। मौके पर विनोद शर्मा, धर्मेंद्र सिंह बिट्टू, जमील अख्तर, डा.अजुला मुर्मू, अली इमाम, पिंटू अग्रवाल समेत कई नेता मौजूद थे। 

यह भी पढ़ेंः भाजपा से लोकतंत्र और संविधान को खतरा: बाबूलाल मरांडी

Posted By: Sachin Mishra