अमरोहा, जेएनएन ।लोकसभा चुनाव की सरगर्मी शुरू होते ही पूर्व सांसद और कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राशिद अल्वी ने अमरोहा में सक्रियता बढ़ा दी थी। वह अपने आपको कांग्रेस का प्रत्याशी भी बता रहे थे। 23 मार्च की रात को उनकी उम्‍मीदवारी घोषित भी कर दी गई, लेकिन करीब 36 घंटे बात ही उनका टिकट काटकर सचिन चौधरी को उम्‍मीदवार घोषित कर दिया गया। कांग्रेस के फैसले से राशिद अल्वी को जहां जोर का झटका लगा है, वहीं गठबंधन समर्थक इस फैसले को अपने पक्ष में मान रहे हैं।

जिला हापुड़ के निवासी के मूल निवासी हैं सचिन 

सचिन चौधरी मूलत: गांव रनिया कल्याणपुर थाना बाबूगढ़ जिला हापुड़ के निवासी हैं। मौजूदा समय में नया मुरादाबाद में रहते हैं। लोकसभा चुनाव से पूर्व सचिन चौधरी ने अमरोहा लोकसभा क्षेत्र में हस्ताक्षर अभियान के जरिये अपनी सक्रियता बढ़ा दी थी। इस दौरान उन्होंने जिले में शौचालय घोटाला होने का आरोप लगाते हुए कलेक्ट्रेट पर कुछ दिन आमरण अनशन भी किया था। शुरुआत में वह सपा से टिकट पर दावेदारी जता रहे थे, लेकिन सपा-बसपा गठबंधन के बाद जब अमरोहा सीट बसपा के खाते में चली गई तो वह कांग्रेस का टिकट हासिल करने की दौड़ में लग गए।

जिलाध्यक्ष ने भेजा था नाम 

कांग्रेस जिलाध्यक्ष चौधरी सुखराज सिंह ने भी पार्टी हाईकमान को संभावित प्रत्याशियों में राशिद अल्वी और सचिन चौधरी का नाम भेजा था। जिलाध्‍यक्ष ने बताया कि पार्टी हाईकमान ने अमरोहा लोकसभा क्षेत्र से सचिन चौधरी को प्रत्याशी घोषित कर दिया है। पार्टी के निर्देश पर सभी कार्यकर्ता सचिन को जोरदार तरीके से चुनाव लड़ाने के लिए तैयार हैं।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021