नई दिल्‍ली [जागरण स्‍पेशल]। भाजपा ने अपने मैनिफेस्‍टो के जरिए नए भारत के निर्माण का संकल्‍प लिया है। सोमवार को जारी मैनिफेस्‍टो में भाजपा ने देश के इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, स्‍वास्‍थ्‍य सुविधाओं, प्रशासन में आमूलचूल बदलाव लाकर नए भारत की संकल्‍पना की है।

भाजपा के साथ पी चिदंबरम जैसी विरोधी ने भी माना कि पिछले पांच सालों में देश में इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और नागरिक सुविधाओं को लेकर अभूतपूर्व तरीके से काम किया गया। देश में जिस तरह से सड़कों, हाईवे का निर्माण किया गया, उसकी प्रशंसा सत्‍ता पक्ष के साथ विपक्ष ने भी की। पिछले पांच सालों में इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर को लेकर भारी निवेश किया गया है। इसमें रेल, सड़क, स्‍वास्‍थ्‍य और शैक्षणिक इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर शामिल है।

गैस ग्रिड, वाटर ग्रिड, आय-वे, घरेलू हवाई अड्डों और राष्‍ट्रीय राजमार्गो पर जोर 
मैनिफेस्‍टो में इंफ्रास्‍टक्‍चर को लेकर कहा गया है कि हम गैस ग्रिड, वाटर ग्रिड, आय-वे, घरेलू हवाई अड्डों और राष्‍ट्रीय राजमार्गो के किनारों पर विशेष सुविधा को अगले स्‍तर पर ले जाया जाएगा। पाइप से गैस ज्‍यादातर महानगरों में मिलती थी, उसे अब छोटे शहरों में ले जाएगा। सभी लोगों को स्‍वच्‍छ पानी मिल सके, इसके लिए वाटर ग्रिड की स्‍थापना की जाएगी। आय वे (I-wAY)से दूरदराज के लोगों को भी तेज रफ्तार का इंटरनेट उपलब्‍ध हो सकेगा। लोगों को कम खर्च में हवाई सुविधा उपलब्‍ध होगी। राजमार्गों के किनारे लोगों की सुविधाओं को अगले स्‍तर पर ले जाया जाएगा।

घोषणा पत्र में कहा गया है कि अधिक से अधिक निजी और सरकारी निवेश के साथ हम तेज गति से इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर के विकास का काम जारी रखेंगे और जमीनी स्‍तर पर परियोजना के प्रबंधन के माध्‍यम से जीवन स्‍तर को बेहतर बनाने औश्र जीवन को आरामदायक बनाने के लिए तत्‍पर रहेंगे।

शहरी विकास को प्राथमिकता देते हुए मैनिफेस्‍टो में कहा गया है कि हम शहरी मुद्दों पर उत्‍कृष्‍ट पांच स्‍थानीय केंद्र स्‍थापित करेंगे। इन केंद्रों के माध्‍यम से राज्‍यों एवं स्‍थानीय इकाइयों को भी शहरी सुशासन और विकास के मुद्दों पर सहयोग करेंगे। आगे कहा गया है कि इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर और कनेक्टिविटी के विकास के जरिए यह सुनिश्चित करेंगे कि उपनगरी बस्तियों और नए शहरी केंद्रों का विकास हो सके।

सार्वजनिक परिवहन को दिया जाएगा प्रोत्‍साहन 
शहरी मोबलटी को लेकर मैनिफेस्‍टो में कहा गया है कि हम एक राष्‍ट्रीय शहरी मोबि‍लि‍टी मि‍शन शुरू करेंगे जिसका उद्देश्‍य सभी स्‍थानीय शहरी नि‍कायों को शहरी मोबिलिटी समाधान प्रदान करना और लोगों को सार्वजनिक परिवहन का प्रयोग, साइकिल का प्रयोग और पैदल चलने के लिए प्रेरित करना है। 

इस मिशन के अन्‍तर्गत हम शहरों का सार्वजनिक परिहन जैसे मेट्रो, लोकल बस, ऑटो, टैक्‍सी, ई-रिक्‍शा सेवा, पैदल पारपथ और साइकलिंग इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर का इस्‍तेमाल करने के लिए प्रेरित करेंगे। इसके साथ ही हम एक समान मोबिलिटी कार्ड टिकट के इस्‍तेमाल को अलग- अलग परिवहन के साधनों का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करेंगे। 

सड़क 
आने वाले पांच सालों में 60000 किमी राष्‍ट्रीय राजमार्गों का निर्माण सुनिश्चित करेंगे। 
2022 तक हम राष्‍ट्रीय राजमार्गों की लंबाई को दोगुना करेंगे। 
भारत माला के पहले चरण को तेजी से पूरा करेंगे। भारत माला 2.0 परियोजना को आरंभ करेंगे
सड़कों के नि‍र्माण, रखरखाव और काम के लिए नई तकनीक लाएंगे।

रेलवे 
जिन रेल मार्गों पर संभव होगा, उन्‍हें 2022 तक ब्रॉड गेज में बदला जाएगा
2022 तक सभी रेल पटरियों का विद्युतीकरण करने का पूरा प्रयास किया जाएगा। 
अलग-अलग मार्गों पर वंदे भारत एक्‍सप्रेस जैसी कई और हार्इस्‍पीड ट्रेनों की शुरुआत की जाएगी।
2022 तक फ्रेट कॉरिडोर परियोजना को पूरा करेंगे। 
रेलवे स्‍टेशनों के आधुनिकीकरण के लिए एक विस्‍तृत योजना शुरू करेंगे।
2022 तक देश के सभी मुख्‍य स्‍टेशनों पर वाई-फाई उपलब्‍ध कराएंगे। 

हवाईअड्डे 
2014 में देश में 65 कार्यात्‍मक हवाईअड्डे थे और आज कुल 101 कार्यात्‍मक हवाई अड्डे हैं। अगले पांच वर्षों में हम कार्यात्‍मक हवाई अड्डों की संख्‍या को दोगुना करेंगे। 

जलशक्ति 
जल प्रबंधन के लिए एक नया मंत्रालय बनाएंगे। इस मंत्रालय का उद्देश्‍य जल प्रबंधन के मसले पर बेहतर प्रयास सुनिश्चित करेंगे। यह मंत्रालय देश के अलग-अलग हिस्‍सों में बड़ी नदियों को जोड़ने के कार्यक्रम को आगे बढ़ाया जाएगा। इससे पीने योग्‍य पानी एवं कृषि सिंचाई समस्‍या का समाधान होगा। इसके लिए एक अथॉरिटी बनाएंगे। 

जल जीवन मिशन की शुरआत करेंगे, जिसके तहत नल से जल  कार्यक्रम के माध्‍यम से 2024 तक हर घर को नल का पानी उपलब्‍ध कराएंगे। 
पानी की उपलब्‍धता को स्थिरता बनाए रखने के लिए विशेष रूप से ग्रामीण जल संसाधन के संवर्धन और ग्राउंड वाटर रीचार्ज पर ध्‍यान केंद्रित करेंगे।   

 

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप