मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

ज्ञानेंद्र सिंह, प्रयागराज : इस बार लोकसभा चुनाव के दौरान जलमार्ग से जनता के बीच पहुंचने की कांग्र्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की पहल कई मायनों में अनोखी होगी। प्रियंका की गंगा यात्रा को ऐतिहासिक बनाने में पार्टी जोर शोर से जुट गई है। तीर्थराज में संगम तट से शुरू होने वाली यह यात्रा भले ही छह लोकसभा क्षेत्रों से होकर गुजरेगी, मगर प्रियंका इस दौरान तीन राज्यों उप्र, बिहार और मप्र की 30 सीटों को साधेंगी। इन सीटों के लिए रणनीति बनाने वाले नेताओं, पदाधिकारियों व टिकट के दावेदारों से भी वह मुलाकात करेंगी।

गंगा की अविरलता व निर्मलता पर हो रहे दावों पर सवाल खड़ा करेंगी प्रियंका

कांग्रेस नेताओं का दावा है कि पार्टी महासचिव व पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा गंगा यात्रा से ही जीवनदायिनी की अविरलता और निर्मलता को लेकर किए जा रहे दावों पर भी सवाल खड़ा करेंगी। जिलाध्यक्ष अनिल द्विवेदी का कहना है कि वह पतितपावनी की अविरलता और निर्मलता को लेकर किए जा रहे दावों को चुनाव में बड़ा मुद्दा बनाएंगी। पार्टी के शीर्ष नेताओं को प्रयागराज और वाराणसी में गंगा में पानी का स्तर, प्रदूषण की मात्रा के बारे में विस्तृत जानकारी भेज दी गई है। गंगा किनारे बसे गांवों की स्थिति के बारे में भी रिपोर्ट भेजी गई है। प्रियंका गांव के लोगों के साथ मुलाकात करेंगी और उनकी समस्याएं भी सुनेंगी।

खास-खास

- 02 दिन पूर्वी उत्तर प्रदेश में जल मार्ग से यात्रा करेंगी प्रियंका गांधी वाड्रा

- 06 संसदीय क्षेत्रों में गंगा किनारे बसे गांवों के लोगों से करेंगी मुलाकात

- 08 बजे सुबह सोमवार को त्रिवेणी तट पर करेंगी पूजा-पाठ

- 100 किमी की जलमार्ग यात्रा में दो दर्जन से ज्यादा स्थानों पर रुकेंगी

पहली बार जल मार्ग से लोगों तक पहुंच रहा कोई नेता

पहली बार इस तरह कोई नेता जल मार्ग से लोगों के पास पहुंच रहा है तो पार्टी पदाधिकारी खासे उत्साहित और सक्रिय हैं। प्रदेश प्रवक्ता किशोर वाष्र्णेय का कहना है कि वह हंडिया स्थित लाक्षागृह भी जाएंगी। पहले लाक्षागृह जाने का कार्यक्रम नहीं था।

टिकट के लिए नेताओं की दावेदारी को भी परखेंगी

प्रयागराज से प्रियंका गांधी की गंगा यात्रा सोमवार सुबह शुरू होगी। आनंद भवन में वह प्रयागराज और चित्रकूट मंडल के अलावा मध्य प्रदेश के रीवा, सतना के पदाधिकारियों से भी मुलाकात करेंगी। टिकट के लिए नेताओं की दावेदारी को भी परखेंगी। मीरजापुर गेस्ट हाउस में भी वह पूर्वी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के कई जिलों के पदाधिकारियों से मुलाकात करेंगी। कहा जा रहा है कि वह गंगा की सफाई को लेकर किए जा रहे दावों को लेकर पार्टीजनों से वस्तुस्थिति समाने लाने का आह्वïान करेंगी। इसे किस तरह चुनावी मुद्दा बनाकर पार्टी के पक्ष में भुनाया जा सकता है, इसके टिप्स भी देंगी। इलाहाबाद, फूलपुर, भदोही, मीरजापुर, चंदौली और वाराणसी संसदीय क्षेत्रों में तो पार्टी के पक्ष में माहौल बनाएंगी ही, आशा है कि पार्टी कार्यकर्ताओं का उत्साह भी बढ़ेगी।

त्रिवेणी दर्शन-आरती से करेंगी शुरुआत

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सबसे पहले गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम पर त्रिवेणी दर्शन और आरती करेंगी। दरअसल, कुंभ में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी के आने को लेकर कई बार पार्टी नेताओं ने बयानबाजी की थी, लेकिन उनका कार्यक्रम लग नहीं पाया। अब प्रशासन के पास जो कार्यक्रम आया है, उसमें संगम तट पर पूजा-पाठ भी शामिल है।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप