वाराणसी [विनोद पांडेय]। लोकसभा चुनाव 2019 में अंतिम चरण के मतदान के चार दिन पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका वाड्रा ने वाराणसी में कल रोड शो कर शक्ति प्रदर्शन किया। रोड शो के लिए कांग्रेस की तरफ से उसी रूट को चुना गया था जिसपर 25 अप्रैल को प्रधानमंत्री का काफिला निकला था। 

कांग्रेस संगठन की कोशिश थी कि भीड़ के मामले में मोदी के रोड शो को चुनौती दी जाए लेकिन उस मुकाबले मामला दमदार साबित नहीं हो सका। हालांकि लंका से लेकर गोदौलिया तक जगह-जगह कांग्रेसियों ने प्रियंका का जोरदार स्वागत किया। 

रोड शो के दौरान चार जगहों पर भाजपा व कांग्रेस समर्थकों के बीच झड़प और मारपीट हुई। शाम सवा छह बजे से निकला रोड शो रात दस बजे समाप्त हुआ। प्रियंका वाड्रा ने काशीवासियों का आभार जताया। बोलीं इस चुनाव में लोकतंत्र की विजय होगी, विरोधियों को जवाब मिलेगा। इसके बाद श्रीकाशी विश्वनाथ व बाबा काल भैरव का दर्शन-पूजन कर दिल्ली चली गईं। 

कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय के समर्थन में बनारस पहुंचीं प्रियंका वाड्रा ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय के मुख्यद्वार पर भारत रत्न महामना पंडित मदनमोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर रोड शो की शुरुआत की। प्रियंका वाड्रा पूरे रास्ते लोगों का अभिवादन करती रहीं और लोगों ने भी हाथ हिलाकर उनका स्वागत किया। रोड शो लंका क्षेत्र में ही कुछ दूर आगे बढ़ा था कि भाजपा समर्थक मोदी-मोदी का नारा लगाने लगे। इस पर युवा कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष पंकज चौबे व अन्य ने भाजपा समर्थकों को पीटना शुरू कर दिया। मौके पर पुलिस ने हस्तक्षेप कर स्थिति को संभाला। वहीं, लंका चौराहे पर ही कांग्रेस समर्थकों ने प्रियंका वाड्रा के खिलाफ टिप्पणी करने पर अधिवक्ता चंद्रशेखर की पिटाई कर दी। भाजपा समर्थक को लेकर पुलिस लंका थाने ले गई। 

इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रियंका जिंदाबाद की बजाय मोदी को तंज कसने वाले नारे लगाने लगे। वहीं, रोड शो अस्सी चौराहे पर पहुंचने ही वाला था कि वहां भी भाजपा समर्थक नारेबाजी करने लगेे। कांग्रेस प्रदेश महासचिव सतीश चौबे ने आपत्ति की। हालांकि जब तक पुलिस मामले को संभालती, भाजपा व कांग्रेस समर्थकों के बीच मारपीट होने लगी। पुलिस ने मशक्कत से मामला संभाला। वहीं, अस्सी पर नमो अगेन की टी शर्ट पहने करीब 20 लोगों से पुलिस टी शर्ट उतरवायी। रोड शो के दौरान सोनारपुरा तक तनावपूर्ण माहौल बना रहा। शिवाला क्षेत्र में भाजपा पदाधिकारी के होटल के सामने दोनों पार्टियों के समर्थक आमने-सामने आ गए। जबरदस्त नारेबाजी हुई। 

प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका ने रोड शो के तीर से कई निशाने साधे। पीएम मोदी के ही रोड शो रूट पर ताकत दिखाई और जनता का दर्द झलकाते मुद्दों को धार दिया। जगह -जगह मुद्दों को समर्पित मंचों से गूंजते 'मैं कर्जदार किसान ..' और 'मैं दुखियारी जीएसटी-नोटबंदी और बेरोजगारी की मारी..' समेत नारों के जरिए केंद्र की भाजपा सरकार के पांच वर्ष के कार्यकाल पर सवाल खड़े करते हुए प्रहार भी किया। दरअसल, यह अपनी बात कहने और बताने का उनका अपना अंदाज था जो अस्सी नदी पर पहुंचते-पहुंचते खुलकर सामने आ गया।

अस्सी पुल के दोनों तरफ लगाए गए कांग्रेसी झंडे के पर्दे को लेकर उन्होंने उत्सुकता जताई। एक नदी के नाले में तब्दील हो जाने की बात सुनने के साथ रोड शो के वाहन से उतरीं और पर्दा हटा कर इससे साक्षात भी किया। कार्यकताओं के हाथ से अस्सी नदी के पानी से भरी बोतलें भी ले लीं। लंका पर संक्षिप्त सभा न कर इन सबके जरिए ही उन्होंने संकेतों में ही अपना संदेश भी दे दिया। मुकाम पर बढ़ते-बढ़ते, खिलता गया चेहरा लगभग दो घंटे देर से आरंभ स्थल लंका चौराहे पहुंचीं प्रियंका ने खिली मुस्कान से इंतजार में खड़े कार्यकर्ताओं का अभिवादन स्वीकार किया। महामना को माल्यार्पण कर वाहन पर सवार हुई और रोड शो आगे बढ़ चला। हाथ हिलाकर हर एक का उन्होंने अभिवादन तो किया ही छतों-बरामदों पर खड़ी महिलाओं को बड़ी ही शालीनता से करबद्ध प्रणाम कर लिया।

चबूतरों पर नारे लगा रहे बच्चों को दुलार लिया तो सेल्फी का भी मौका दिया। भदैनी के पास चबूतरे पर पोस्टर लिए खड़े बच्चों से उन्होंने वाहन से लटक कर हाथ मिलाया और अपना चित्र उपहार स्वरूप स्वीकार किया। लगभग आधा दर्जन बार वाहन से उतर कर लोगों से मेल-मुलाकात में उन्होंने कांग्रेस नेता मोहन प्रकाश के घर के पास सड़क किनारे खड़े साधुओं को प्रणाम भी किया। इस तरह उन्होंने लगभग साढ़े तीन घंटे चले पांच किमी के रोड शो में हर वर्ग का दिल जीतने का प्रयास किया। रास्ते में छतों से फूलों की बरसात, माला-दुशाला लेकर आगे बढ़ते हाथ, भीड़ और उत्साह देख उनके चेहरे पर खिले प्रसन्नता के भाव ने रोड शो उनके मनमाफिक होने का अहसास कराया जो मुकाम पर बढ़ते-बढ़ते और विस्तारित होता गया। समापन पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने इसे व्यक्त भी किया। कहा-काशी की जनता का प्यार मिला, इससे बेहद प्रसन्नता हुई। सभी का तहे दिल से आभार जताते हुए लोकतंत्र की जीत होने का विश्वास जताया। कहा इससे विरोधियों को जवाब मिलेगा।

विरोध की आंच से तेज होती गई 'चौकीदार चोर है' नारे की धार भाजपा के विरोध में गढ़ा गया कांग्रेस का नारा चौकीदार चोर है वैसे तो प्रियंका के लंका पहुंचने के पहले भी गूंजा लेकिन रोड शो की राह में भाजपा समर्थकों की ओर से विरोधी नारेबाजी से इसका शोर और भी तेज हो गया। इसमें पंजा-पंजा और सोनिया-राहुल-प्रियंका-कांग्रेस जिंदाबाद जैसे पार्टी के नारे गुम हो गए। कार्यकर्ताओं ने खूब झंडे लहराए लेकिन चौकीदार चोर है के नारे ही अधिक लगाए।

हाथ मिलाया, सेल्फी दी और मालपुआ चखा

रोड शो के दौरान प्रियंका का अलग ही अंदाज रहा। किनारे खड़े लोगों से हाथ मिलाया तो अस्सी क्षेत्र में खड़े बच्चों को सेल्फी दी। लंका क्षेत्र में एक युवक भीड़ के चलते बेहोश कर उनकी गाड़ी के आगे गिर पड़ा तो प्रियंका वाहन से उतरकर उसका हाल जानने पहुंच गईं। युवक को तत्काल अस्पताल भिजवाया गया। वहीं भदैनी पार्षद मीनू शर्मा के हाथ का बना मालपुआ भी चखा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप