नई दिल्ली, आइएएनएस। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन पर चुनाव आयोग के पत्र को गृह मंत्रालय को भेज दिया है। राष्ट्रपति ने गृह मंत्रालय से आवश्यक कार्रवाई करने को कहा है।

सोमवार को राष्ट्रपति को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि राजस्थान के राज्यपाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना कर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है। उन्होंने यह भी कहा था कि निश्चित रूप से मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री चुना जाना चाहिए। पत्र के अनुसार, संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति द्वारा संहिता का उल्लंघन गंभीर और दुर्लभ मामला है।

राष्ट्रपति ने विदेश दौरे से लौटने के बाद यह पत्र गृह मंत्रालय को भेजा है। उन्होंने उल्लेख किया है कि राज्यपाल को सक्रिय राजनीति से दूर रहना चाहिए। स्वतंत्र भारत में यह पहला मौका है जब एक राज्यपाल ने किसी प्रधानमंत्री के लिए प्रचार कर आदर्श आचार सहिंंता का उल्लंघन किया है।

पिछले महीने कल्याण सिंह ने कैमरे पर कहा था कि देश और समाज के हित में मोदी को फिर से प्रधानमंत्री चुना जाना जरूरी है। यह बयान उन्होंने अपने गृह नगर अलीगढ़ में दिया था।

अब राष्ट्रपति का दरवाजा भी खटखटाएगी कांग्रेस

वहीं कांग्रेस ने राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह को पद से हटाने को लेकर घेराबंदी तेज कर दी है। पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा के लिए वोट मांग कर कल्याण सिंह ने राज्यपाल के पद की गरिमा को गिराया है।

कांग्रेस का प्रतिनिधि मंडल जल्द इस मामले को लेकर राष्ट्रपति से मुलाकात करेगा। इसके लिए समय मांगा गया है। सुरजेवाला ने गुरुवार को कहा कि राज्यपाल जैसे पद पर बैठे हुए व्यक्ति को राजनीतिक टिप्पणी करना संवैधानिक मर्यादाओं के खिलाफ है। कल्याण सिंह ने राज्यपाल रहते हुए जो टिप्पणी की है, वह पद की गरिमा और चुनाव आचार संहिता के खिलाफ है। उन्हें तुरंत हटाया जाना चाहिए।

कांग्रेस चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करा चुकी है। अब उसने राष्ट्रपति का दरवाजा खटखटाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि घटना के बाद ही इस मामले की शिकायत को लेकर राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा गया था, लेकिन उस समय वह बाहर थे। बुधवार शाम को वह आ गए हैं। हमने फिर से मुलाकात का समय मांगा है।

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप