पटना [राज्य ब्यूरो]। जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के उपाध्यक्ष व चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा है कि राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के प्रधानमंत्री उम्‍मीदवार नरेंद्र मोदी ही हैं। नीतीश कुमार प्रधानमंत्री पद के दावेदार नहीं हैं। उनकी राष्‍ट्रीय राजनीति में और भी कई भूमिकाएं हो सकती हैं। प्रियंका गांधी को लेकर कहा कि उनके राजनीति में आने का लाभ कांग्रेस को मिलेगा।

राष्‍ट्रीय राजनीति में नीतीश की भूमिका की ओर किया इशारा

मीडिया से बातचीत के दौरान प्रशांत किशोर कहा कि राजग में नीतीश कुमार के होने का मतलब यह नहीं कि वे प्रधानमंत्री या उप प्रधानमंत्री पद के दावेदार हो सकते हैं। नीतीश कुमार देश के बड़े नेता हैं और उनकी दूसरी भी कई भूमिकाएं हो सकती हैं।

बोले: शिवसेना प्रमुख से मुलाकात के राजनीतिक मायने नहीं

प्रशांत किशोर पिछले दिनों मुम्बई में शिवसेना प्रमुख उद्वव ठाकरे से मिले थे। दोनों के बीच उत्तर बिहारियों की सुरक्षा समेत अन्य मसलों पर चर्चा हुई है। संजय राउत से भी मुलाकात हुई। प्रशांत ने बताया कि इस दौरान चुनाव से जुड़े मसलों पर बात हुई, लेकिन इसके कोई और मायने नहीं निकाले जाने चाहिए। उन्‍होंने कहा कि शिवसेना भी राजग का हिस्सा है।

पासवान के लिए जदयू व भाजपा को छोड़नी होंगी कुछ सीटें

प्रशांत किशोर ने कहा कि राजग में तीन दल हैं। इसमें शामिल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) 15 सीटों पर लड़ी थी, जबकि जदयू 25 सीटों पर। अब पासवान उसमें नए खिलाड़ी हैं। जाहिर है जदयू की 25 में से दो सीटें भाजपा काे जाएंगी और कुछ सीटें पासवान जी के लिए छोडऩी होगी।

एक लाख युवा वोटरों को जोड़ रहा जदयू

उन्होंने कहा जदयू एक लाख युवा वोटरों को पार्टी से जोड़ रहा है। जिनमें 10-15 हजार को चुनाव लड़ा सकें ये हमारी कोशिश होगी। प्रेस कांफ्रेंस में जदयू के मुख्य प्रवक्ता संजय सिंह भी मौजूद रहे।

प्रियंका को बताया बड़ा चेहरा, कही ये बात

प्रियंका गांधी के रोड शो से जुड़े सवाल पर प्रशांत किशोर ने कहा कि राजनीति में प्रियंका के आने का उन्होंने स्वागत किया था, लेकिन जादू की छड़ी किसी के पास नहीं है। बतौर चुनावी रणनीतिकार, जिस वक्त वे संयुक्‍त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के लिए काम कर रहे थे, यह देखते थे कि प्रियंका के आने से संप्रग को फायदा हो सकता है। नए परिप्रेक्ष्य में क्या होगा, अभी कहा नहीं जा सकता। लेकिन प्रियंका बड़ा चेहरा हैं जिसका फायदा भविष्य में मिलेगा।

महागठबंधन में विवाद पर बोलने से इनकार

प्रशांत किशोर ने महागठबंधन में उठे विवाद पर कुछ भी बोलने से इनकार किया। कहा कि किसी भी गठबंधन में चार से अधिक दल हैं तो मंच पर फाइलों में मजबूत दिख सकते हैं, पर जमीन पर कितनी सफलता देंगे, कहना मुश्किल है। इतने दलों को मैनेज करना भी बड़ी बात है।

Posted By: Amit Alok