किशनगंज (अमितेष)। उत्साह और उमंग के बीच किशनगंज में जमकर मतदान हुआ। छिटपुट झड़प और नोकझोंक के बीच पूरे लोकसभा क्षेत्र में मतदाताओं ने बढ़-चढ़ कर मतदान में हिस्सा लिया। सुबह सात बजे से लेकर शाम छह बजे तक तमाम मतदान केंद्रों पर वोटरों की लंबी लाइनें लगी रहीं। 

पिंक बूथ पर महिला मतदानकर्मियों की सक्रियता बेहतर

एक-आध मतदान केंद्र पर ईवीएम में खराबी के कारण लगभग आधे घंटे विलंब से मतदान शुरू हुआ, जो शाम छह बजे तक चलता रहा। पिंक बूथ पर महिला मतदानकर्मियों की सक्रियता बेहतर रही। वहीं तमाम बूथों पर दिव्यांगों के लिए रैंप व ह्वील चेयर की व्यवस्था की गई थी। 

स्‍टूडेंट्स ने की दिव्‍यांगों की सहायता 

स्काउट एंड गाइड के विद्यार्थीगण दिव्यांगों को सहयोग करते दिखे, यद्यपि इनके लिए नाश्ते-खाने का समुचित प्रबंध नहीं होना खटक रहा था। वहीं ठाकुरगंज विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत दल्लेगांव स्थित बूथ संख्या 166, 167, 168, 169 व 170 पर ग्रामीणों ने वोट बहिष्कार किया। इन पांचों मतदान केंद्रों पर 4299 मतदाता हैं। 

 मामूली बढ़त

पिछले चुनाव में जहां 63.31 फीसद मतदान हुआ था, वहीं इस बार 64.10 फीसद मतदान हुआ। महिलाएं, युवा व बुजुर्ग यानी समान रूप से सभी उम्र के लोग मतदान करने घर से बाहर निकले। पहली बार मतदान करने वाले किशोर जहां उत्साहित दिखे, वहीं महिलाएं व बुजुर्ग इसे लोकतंत्र की जीत बता रहे थे। ठाकुरगंज के बूथ संख्या 205, पटेसरी में 75 फीसद मतदान हुआ।

आखिरी क्षण तक उहापोह

महिलाओं में उत्साह इस कदर था कि हर मतदान केंद्र पर सुबह होते ही महिलाओं की लंबी कतारें लग गई। दोपहर होते-होते अधिकांश महिलाएं मतदान कर वापस घर लौट गईं। इसके अलावा जो एक चीज खास दिखी वो ये गोलबंदी के लिए जाने जाने वाले किशनगंज में इस बार आखिरी क्षण तक उहापोह बनी रही।

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस